जॉर्डन क्वीन ‘नूर’ ने यूएई-इज’रायल डील को किया खारिज

जॉर्डन के दिवंगत किंग हुसैन बिन तलाल की पत्नी क्वीन नूर ने जॉर्डन के किंग अब्दुल्ला द्वितीय के सौतेले भाई प्रिंस अली बिन अल हुसैन के साथ एकजुटता व्यक्त की है, जिन्होंने इजरायल के साथ संयुक्त अरब अमीरात डील को अस्वीकार कर दिया।

क्वीन नूर ने ट्विटर पर प्रिंस अली और जॉर्डन के कार्टूनिस्ट इमाद हज्जाज के साथ एकजुटता के अभियान का विवरण देते हुए एक लेख साझा किया जिसमें प्रिंस अली और प्रसिद्ध जॉर्डन के कार्टूनिस्ट ने यूएई डील की आलोचना की।

प्रिंस अली बिन अल-हुसैन के ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी स्थित ब्रिटिश एमेरिटस प्रोफेसर ऑफ इंटरनेशनल रिलेशन्स के एक लेख को ट्वीट करने के बाद विवाद छिड़ गया। हालांकि, बाद में राजकुमार ने संयुक्त अरब अमीरात के गुस्से और दोनों देशों के बीच विवाद से बचने के प्रयास के बाद लेख को हटा दिया।

13 अगस्त को, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने यूएई और इजरायल के बीच वाशिंगटन में इस शांति समझौते की घोषणा की थी। इस डील को लेकर न केयल अरब देशों में बल्कि पूरी मुस्लिम दुनिया में भारी गुस्सा देखने को मिल रहा है। ईरान, तुर्की, पाकिस्तान, मलेशिया आदि ने इस डील का खुलकर विरोध किया है।

हाल ही में ईरान के सर्वोच्च नेता अयातुल्लाह अली खामेनई ने संयुक्त अरब अमीरात (UAE) की आलोचना करते हुए कहा कि UAE ने मुस्लिम दुनिया को बड़ा धोखा दिया है। खामेनई ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर कहा, “संयुक्त अरब अमीरात ने इस्लामिक जगत, अरब देशों और फिलिस्तीन को धोखा दिया है।” ईरान के सर्वोच्च नेता ने कहा, “बेशक, यह विश्वासघात लंबे समय तक नहीं चलेगा, लेकिन इसका कलंक यूएई के साथ रहेगा।”

खामेनई ने कहा, “मुझे उम्मीद है कि अमीरात जल्द ही अहसास हो जाएगा और उसने जो किया है उसकी भरपाई करेगा।” उन्होंने कहा, “संयुक्त अरब अमीरात के शासकों ने यहूदियों के लिए क्षेत्र के दरवाजे खोल दिए हैं और फिलिस्तीन के मामले की अनदेखी की है।”

विज्ञापन