jord1

जॉर्डन के शासक अब्दुल्लाह द्वितीय इजरायल से दो सीमावर्ती इलाक़ों की लीज़ की अवधि बढ़ाने से इंकार करते हुए उन्हे वापस सौंपने की मांग की है। बता दें कि दोनों इलाक़ों को 1994 में हुए शांति समझौते के तहत दिया गया था।

जानकारी के अनुसार, ये दो इलाक़े बाक़ूरा और ग़ूमर के नाम से जाने जाते हैं। बाक़ूरा जॉर्डन के उत्तरी इरबिद प्रांत में 6 वर्ग किलोमीटर का सीमावर्ता इलाक़ा है जो अतिग्रहित फ़िलिस्तीनी क्षेत्र के उत्तर में स्थित किनरेट झील के दक्षिण में स्थित है। इसी तरह ग़ूमर जिसे ज़ोफ़र भी कहते हैं, जॉर्डन के दक्षिणी प्रांत अक़बा में 4 वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल पर फैला दूसरा सीमवर्ती क्षेत्र है। यह डेड सी के दक्षिण में स्थित है।

26 अक्तूबर 1994 में जॉर्डन-इस्राईल के बीच हुयी शांति संधि के अनुसार, ये दोनों सीमावर्ती इलाक़े इस्राईल को 25 साल के लिए लीज़ पर दिए गए थे। इस समझौते के अनुसार, यह लीज़ ख़ुद बख़ुद फिर से आगे बढ़ जाएगी मगर यह कि दोनों पक्षों में से कोई भी एक साल पहले इस समझौते को ख़त्म करने का नोटिस दे।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

न्यूज़ एजेंसी पेट्रा के अनुसार, जॉर्डन के शासक ने रविवार को कहा, “हम इस्राईल को सूचित कर चुके हैं कि बाक़ूरा और ग़ूमर से संबंधित शांति समझौते को ख़त्म करना चाहते हैं।” यह समझौते आने वाले गुरुवार को ख़त्म हो जाएगा।

वहीं दूसरी और ज़ायोनी प्रधान मंत्री बिनयामिन नेतनयाहू ने अपने बयान में कहा कि अम्मान लीज़ को ख़त्म करना चाहता है लेकिन तेल अविव उसके साथ बातचीत करेगा ताकि मौजूदा व्यवस्था संभवतः बनी रहे। उन्होंने कहा कि इस बात में शक नहीं कि द्विपक्षीय समझौता एक अहम संपत्ति है।

Loading...