amma

amma

अम्माम: अल कुद्स यानि जेरुसलम को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के फैसले के विरोध में केवल मुस्लिम नहीं है. बल्कि बड़े पैमाने पर ईसाई समुदाय भी इस फैसले का विरोध कर रहा है.

बुधवार की शाम को इस फैसले के विरोध में जार्डन के चर्चों ने अपना गुस्सा जाहिर करते हुए विरोध-प्रदर्शन आयोजित किये. फ़िलिस्तीनियों का समर्थन करते हुए प्रदर्शनकारी नारे लगा रहे थे कि बैतुल मुक़द्दस अरबों का शहर है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

प्रदर्शन में शामिल ईसाई समुदाय के लोगों ने हाथों में मोमबत्तियां उठा रखी थीं.  वे नारे लगा रहे थे कि न पूरब न पश्चिम, बैतुल मुक़द्दस अरबों का शहर है, ट्रम्प सुन ले, बैतुल मुक़द्दस मुसलमानों और ईसाईयों का मार्गदर्शन है, बैतुल मुक़द्दस हमारी हमेशा की राजधानी है.

जार्डन के कैथोलिक शोध केन्द्र के प्रमुख पादरी रफ़अत बद्र ने अपने बयान में कहा कि बैतुल मुक़द्दस के बारे में ट्रम्प के फ़ैसले के विरोध में देश के पादरियों ने बैतुल मुक़द्दस के समर्थन में प्रदर्शन करने की घोषणा की है.

उनका कहना था कि इस्राईल के समर्थन में ट्रम्प का एकपक्षीय फ़ैसला, न केवल यह कि उनके अप्रचलित दृष्टिकोणों को उजागर करता है बल्कि यह सिद्ध कर दिया कि वह कभी भी मध्यस्थ की भूमिका नहीं निभा सकते

Loading...