इस्राईल द्वारा फ़िलिस्तीनियों के उम्मुल हैरान गांव सहित दूसरे इलाक़ों में घर गिराए जाने को लेकर यहूदियों और मुस्लिमों ने मिलकर इस्राईल प्रशासन के खिलाफ प्रदर्शन किया. इस्राईल की राजधानी  तेल अविव में इस प्रदर्शन में हजारों की संख्या में लोगों ने हिस्सा लिया.

शनिवार की रात हुए इस प्रदर्शन में यहूदियों और मुसलमानों ने नेतनयाहू की फ़िलिस्तीनियों के ख़िलाफ़ भेदभावपूर्ण नीति की कड़ी आलोचना की. इसी के साथ उम्मुल हैरान गांव में एक टीचर याक़ूब मूसा अबू अल-क़ियान की मौत के संबंध में झूठी जानकारी देने को लेकर सुरक्षा मामलों के मंत्री गिलाद इर्दान के इस्तीफ़े की भी मांग की गई.

याद रहें कि याक़ूब मूसा अबू अल-क़ियान को इस्राईली सुरक्षाकर्मियों ने उस वक्त गोली मार दी थी जब वे उम्मुल हैरान गांव में इस्राईल के घर गिराने की कार्यवाही का विरोध कर रहे थे.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

हालांकि ज़ायोनियों ने दावा किया कि क़ियान ने अपनी गाड़ी एक इस्राईली अधिकारी पर चढ़ा दी जिससे एक अधिकारी मारा गया था. वहीँ  प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, पुलिस ने अल-क़ियान पर जिस समय गोली चलायी वह सामान्य ढंग से अपनी कार चला रहे थे लेकिन इस्राईली पुलिस की गोली के कारण वह अपना संयम खो बैठे जिसके नतीजे में कई लोगों को कार से टक्कर लगी

Loading...