इस्लाम धर्म के तीसरे सबसे पवित्र स्थल की बेहुरमती का मामला सामने आया हैं. फ़िलिस्तीन में रहने वाले चरमपंथी यहूदियों ने इजरायली सेना की मदद से मस्जिदुल अक़्सा की बेहुरमती की है.

प्राप्त जानकारी के अनुसार, मस्जिदुल अक़्सा के बाबुल मोग़ारेबा नामक द्वार से मस्जिद पर हमला करके वहां मौजूद फ़िलिस्तीनी मुसलमानों के साथ मारपीट की और मस्जिद में रखी पवित्र धार्मिक किताबों का अनादर किया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

हमले के समय मस्जिद में मौजूद लोगों ने बताया कि चरपंथी यहूदियों ने पहले तो फ़िलिस्तीनी मुसलमानों को इस्राईली सेना की मदद से मारा पीटा उसके बाद इस्लाम विरोधी नारेबाज़ी भी की.

फ़िलिस्तीनी मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, मस्जिदुल अक़्सा पर हुए हमले की सूचना मिलते ही मस्जिद के आसपास रहने वाले फ़िलिस्तीनी मस्जिद पहुंचे जिन्होंने चरमपंथी यहूदियों के इस हमले का विरोध किया.

मस्जिदुल अक़्सा में मौजूद लोगों ने बताया कि स्वयं ज़ायोनी सेना चरमपंथियों को सुरक्षा देते हुए मस्जिद और उसके अंदर घुसकर पवित्र स्थलों का अनादर कराया.

Loading...