Saturday, July 24, 2021

 

 

 

नक़बा दिवस पर बोला तुर्की – ‘यरूशलेम हमारे लिए रेड लाइन’

- Advertisement -
- Advertisement -

नकबा दिवस की 72 वीं वर्षगांठ तुर्की के राष्ट्रपति के प्रवक्ता ने शनिवार को फिलिस्तीनी लोगों के साथ एकजुटता व्यक्त की और कहा कि यरूशलेम हमारे लिए रेड लाइन है।

इब्राहिम कालिन ने कहा कि, “महान तबाही” को परिभाषित करने वाले नकाब ने फिलिस्तीनी राष्ट्र को 72 साल के लंबे कब्जे, गैरकानूनी, उत्पीड़न और अन्याय को सहा। यह देखते हुए कि फिलिस्तीन की 70% आबादी विस्थापित हो गई है और 6 मिलियन फिलिस्तीनी विभिन्न देशों में शरणार्थी के रूप में रह रहे हैं।

कलिन ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र के फैसलों और अंतरराष्ट्रीय फैसलों के बावजूद, पूर्वी यरुशलम और वेस्ट बैंक में अवैध यहूदी बस्तियां चल रही हैं। फिलिस्तीनी परिवारों को उनके घरों से बाहर निकाल दिया जाता है। लगभग 650,000 इज़राइली यहूदी वर्तमान में लगभग 164 बस्तियों में रहते हैं और कब्जे वाले वेस्ट बैंक और पूर्वी यरुशलम में बने 116 बंदोबस्त पोस्ट हैं।

कलिन ने जोर देकर कहा कि 1967 की सीमाओं और संयुक्त राष्ट्र के कई फैसलों के आधार पर, फिलिस्तीन राज्य का गठन जिसमें राजधानी यरुशलम है और जो स्वतंत्र, संप्रभु है, और भौगोलिक अखंडता है, फिलिस्तीनी राष्ट्र का “ऐतिहासिक और वैध अधिकार” है।

फिलिस्तीनी राष्ट्र को उनके अधिकार मिलने से पहले क्षेत्रीय और वैश्विक शांति स्थापित करना संभव नहीं है। कालिन ने चेतावनी दी कि यरूशलेम की कानूनी, धार्मिक और ऐतिहासिक स्थिति को बदलने की कोशिश करने वाला हर कदम “आग से खेलना” है।

उन्होंने कहा, “जैसा कि हमारे [तुर्की] राष्ट्रपति रेसेप तैयप एर्दोगन कहते हैं, यरूशलेम हमारी लाल रेखा है।” उन्होंने सभी से “कानून, विवेक और न्याय की भावना”, को इजरायल के “बर्बरता” के खिलाफ एक स्टैंड लेने के लिए कहा। उन्होने ये भी कहा, “तुर्की के रूप में, हम अपने राष्ट्रपति रेसेप तैयप एर्दोगन के नेतृत्व में फिलिस्तीनी राष्ट्र के साथ उनके सही मामले में बने रहेंगे।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles