हिज़्बुल्लाह की धमकी के बाद से ही हैफ़ा शहर में इस्राईलियों ने विरोध-प्रदर्शन शुरू कर दिया हैं. ये प्रदर्शन शहर में अदालत के बाहर शहर में मौजूद अमोनिया के भंडार को फ़ौरन ख़ाली करने की मांग को लेकर किया गया.

दरअसल, 16 फ़रवरी को लेबनान के हिज़्बुल्लाह संगठन के के महासचिव सैय्यद हसन नसरुल्लाह ने इस्राईल को चेतावनी देते हुए कहा था, “अगर इस्रईल ने जंग थोपी तो हिज़्बुल्लाह डिमोना न्यूक्लिएर रिएक्टर और अमोनिया टैंक को निशाना बनाएगा.” इस चेतावनी के बाद से ही इस्राईली खौफ के साए में जी रहे हैं.

हैफ़ा अदालत के अधिकारियों ने अमोनिया गैस को तुरंत ख़ाली करने के विषय की समीक्षा के लिए अगले 3 दिन में सत्र आयोजित करने का फैसला किया हैं. हैफ़ा में 12000 टन अमोनिया गैस का भंडार मौजूद है जो ज़हरीला पदार्थ है. इसकी वजह से 17000 इस्राईलियों पर मौत का ख़तरा हैं.

येश आतीद’ दल के प्रमुख यईर लपीद के अनुसार, अगर हैफ़ा पर मीज़ाईल हमले या तकनीकी ख़राबी से अगर अमोनिया का भंडार फट गया तो 17000 इस्राईली मारे जाएंगे.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें