पिछले साल अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने इसराइल के पक्ष में एक फैसला लिया था की वह इसराइल की राजधानी के रूप में पवित्र शहर जेरुसलम को मान्यता देते हैं, हालाँकि जिसे संयुक्त राष्ट्र में हुई वोटिंग के दौरान ख़ारिज कर लिया गया था, ट्रम्प के इस फैसले के बाद दोनों देशों में और तनाव बढ़ा है, अब तक कई फिलिस्तीनी इस संघर्ष में शहीद हो चुके हैं.

बुधवार को फिलिस्तीनी स्वास्थ्य मंत्री ने घोषणा की “कि कब्जाए गए वेस्ट बैंक में बुधवार को भी इस्राइली सेना के साथ संघर्ष करने के दौरान एक फिलिस्तीनी की मौत हो गयी.” स्वास्थ्य मंत्री ने मृतक का नाम अहमद जरर बताया, जो महज 22 साल का था.

इस्राइली शिन बेथ ने कहा की “संघर्ष के दौरान एक की मौत हो चुकी है, जबकि एक अन्य को गिरफ्तार किया गया.” इज़राइली मीडिया ने बताया कि “बॉर्डर पर गोलीबारी के दौरान दो सैनिक घायल हुए, जिनमे से एक काफी गंभीर हालत में है.”

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

फिलिस्तीनी प्रदर्शनकारियों ने कहा कि “दो घंटो तक चले इस संघर्ष में फिलिस्तीनी को गिरफ्तार कर लिया गया

फिलीस्तीनी स्वास्थ्य मंत्रालय के आधिकारिक ने शख्स को हमास के आतंकवादी अहमद जारार और एक वरिष्ठ हमास के कमांडर नासर जारार के बेटे के रूप में मारे जाने वाले शख्स की पहचान की, जो 2002 में इजरायली सेनाओं द्वारा मारा गया था.

इज़राइली सैनिकों ने रब्बी रजीली शेवा के हत्यारों की तलाश शुरू कर दी है, जो नब्बलस के पास एक निपटान की चौकी के निवासी है, जिनकी मृत्यु नौ जनवरी को हुई थी.