negev

negev

फिलिस्तीन के नकाब क्षेत्र में स्थित अल-अरकिब का बैदुन गांव एक ऐसा गांव है. जिसे तबाह और बर्बाद करने की इजरायल सेकड़ों कोशिशे कर चूका है. बावजूद इसके वह कभी सफल नहीं हुआ है.

इजरायली फ़ौज आज 119वी बार बुलडोज़र्स के साथ गांव को नष्ट करने पहुंची. इस दौरान इजरायली बुलडोज़र्स ने पुरे गांव को तहस-नहस कर दिया. एक भी घर ऐसा नहीं छोड़ा, जो कि सही सलामत हो. हालांकि इजरायल के हौसले पस्त नहीं कर सका. गांव के बाशिंदों ने एक बार फिर से गांव को बसाने का फैसला किया है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

एक स्थानीय कार्यकर्ता अजीज अल-तुरी ने वफा एजेंसी को बताया, इजरायली बुलडोज़र्स के साथ इजरायली पुलिस बलों ने गांव पर छापा मारा और अपने अस्थायी घरों को “उनके निवासियों के लिए कोई भी विचार किए बिना और खराब मौसम की स्थिति के बावजूद” ध्वस्त कर दिया.

उन्होंने कहा, “(इज़राइली) पुलिस हमेशा हमें उत्तेजित करने की कोशिश करती रहती है. हालांकि उनका विनाश हमें डरा नहीं सकता और हम अपने घरों के पुनर्निर्माण को नहीं रोकेंगे.” आप को बता दे इस गांव को विनाश करने पर इजरायल सरकार को इजरायल की अदालत के आदेश पर मुआवजा भी देना पड़ा है.

एक इज़राइली अदालत ने पिछले महीने फैसला सुनाया था, जिसमे अल-अरकिब के छह निवासियों के घरों को नुकसान पहुंचाने के लिए 100,000 शेकेल (27,693 डॉलर) से 262,000 शेकेल (72,000 डॉलर से अधिक) का भुगतान करना पड़ा.

यह केवल एक ताजा भुगतान है जिसमें गांव को गांव में नियमित विनाश के लिए इजरायल को क्षतिपूर्ति देनी पड़ी है. वरना 2010 से गांव के खिलाफ किए गए इजरायल द्वारा लागू किए गए विध्वंस की संचयी लागत 20 लाख से शेकेल (लगभग 541,000 डॉलर) से अधिक है.

Loading...