इस्राईल की और से इस्लाम धर्म के तीसरे सबसे पवित्र स्थल मस्जिदुल अक़सा को लेकर की जा रही कार्यवाही को लेकर इस्लामिक जगत सहित पूरी दुनिया के मुस्लिमों में काफी गुस्सा हैं.

ऐसे में अब एक बार फिर से इस्राईल की और से मस्जिदुल अक़सा में बदलाव करने की कोशिश की गई हैं. जिसकी आलोचना करते हुए मस्जिदुल अक़सा के वक्ता ने कहा है कि इस्राईल बैतुल मुक़द्दस की बनावट को परिवर्तित करके क्षेत्र को धार्मिक युद्ध में झोंकना चाहता है.

मस्जिदुल अक़सा के वक्ता इस्माईल नवाहेज़ा ने कहा कि इस्राईल बैतुल मुक़द्दस की धार्मिक, एेतिहासिक और नागरिक पहचान बदल रहा हैं. इसके लिए वह बैतुल मुक़द्दस के निवासियों की नागरिकता समाप्त कर रहा है और उनको घरों से निकाल रहा है और उन पर भारी टैक्स लगा रहा है.

इस्माईल नवाहेज़ा ने कहा कि इस्राईल ने अपनी धरती पर फ़िलिस्तीनियों के घरों के पुनर्निमाण की अनुमति नहीं देने के आलवा  नई ज़ायोनी कालोनियों के निर्माण के उद्देश्य से हज़ारों हेक्टेयर ज़मीन हड़प भी ली है. उन्होंने ज़ायोनी शासन के अपराधों और हमलों की आलोचना की और कहा कि  इससे क्षेत्र में धार्मिक युद्ध छिड़ सकता है और क्षेत्र की शांति व स्थिरता ख़तरे में पड़ जाएगी


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें