फिलिस्तीन की जमीन पर अवैध शासन करने वाले इस्राइल को यूरोपीय संघ (ईयू) ने फिलिस्तीन की  जमीन पर नई कॉलोनी के निर्माण को लेकर चेतावनी जारी की हैं. यूरोपीय संघ (ईयू) ने चेतावनी दी है कि इससे दो राष्ट्रों के समाधान की संभावनाएं ‘आगे और धूमिल’ होंगी.

दरअसल, डोनाल्ड ट्रंप द्वारा अमेरिका के राष्ट्रपति पद की कुर्सी सँभालते ही इस्राइल के प्रधानमन्त्री ने दो दिन पहले ही वेस्ट बैंक इलाके में 2500 नयी बस्तियों के निर्माण को मंजूरी दी है. इस बयान के आने के बाद यूरोपीय संघ की विदेश नीति संबंधी शाखा ने कहा, ‘इन दोनों घोषणाओं से दो राष्ट्रों के व्यवहार्य समाधान की संभावनाएं आगे धूमिल होंगी.’

विदेश मामलों की कार्रवाई सेवा के प्रवक्ता ने कहा, ‘यह खेदजनक है कि अंतरराष्ट्रीय बिरादरी की लगातार गंभीर चिंता और आपत्तियों के बावजूद इस्राइल इस नीति के साथ आगे बढ़ रहा है.’ यूरोपीय संघ ने एक बयान में कहा,‘दोनों पक्षों की वैध आकांक्षाओं को पूरा करने और शांति स्थापित करने के लिए दोनों राष्ट्रों के बीच केवल बातचीत ही एक समाधान है.’

गौरतलब रहें कि फिलिस्तीन  की जमीन पर अवैध कॉलोनीयों के निर्माण को लेकर सयुंक्त राष्ट्र में इसराइल के खिलाफ प्रस्ताव पारित हुआ था. इस प्रस्ताव का समर्थन तत्कालीन राष्ट्रपति बराक ओबामा ने भी किया था. जिसके चलते अमेरिका ने इस प्रस्ताव को वीटों नहीं किया था. इसी के साथ सुरक्षा परिषद् में वोटिंग के दौरान अमेरिका ने हिस्सा भी नहीं लिया था. इस प्रस्ताव के पारित होने का बाद  इस्राइल के प्रधानमन्त्री नेतन्याहू ने अपने इस फैसले को टाल दिया था.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें