ईरानी जनरल कासेम सोलेमानी की हत्या के लिए इजरायल ने अमेरिका को खुफिया जानकारी दी थी।

एनबीसी न्यूज ने शुक्रवार को खुलासा किया, ‘सीरियाई चाम विंग्स एयरलाइंस एयरबस ए 320, बगदाद में उतरा।’ ये खुफिया जानकारी इजरायल ने ही अमेरिका को दी थी।

इतना ही नहीं अमेरिका ने पश्चिम या मध्य पूर्व में अपने किसी भी सहयोगी को चेतावनी नहीं दी कि क्या होने वाला था और केवल इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू को इस बारे में सूचित किया।

टाइम्स ऑफ इज़राइल के अनुसार, इसने नेतन्याहू को यह कहने के लिए प्रेरित किया कि ग्रीस जाने से पहले इस क्षेत्र में “बहुत, बहुत नाटकीय चीजें” हो रही थीं। उन्होने कहा था, “हम जानते हैं कि हमारा क्षेत्र तूफानी है; बेन गुरियन एयरपोर्ट पर पत्रकारों से उन्होंने कहा, बहुत, बहुत नाटकीय चीजें हो रही हैं।

“हम सतर्क हैं और स्थिति की निगरानी कर रहे हैं। हम हमारे महान मित्र अमेरिका के साथ निरंतर संपर्क में हैं। इस बीच, वाशिंगटन पोस्ट ने शुक्रवार को खुलासा किया कि अमेरिका उसी दिन ईरान के एक अन्य वरिष्ठ सैन्य अधिकारी की हत्या करने में विफल रहा।

वाशिंगटन पोस्ट ने अमेरिकी अधिकारियों के हवाले से बताया, “जिस दिन अमेरिकी सेना ने बगदाद में एक शीर्ष ईरानी कमांडर को मार गिराया, अमेरिकी सेना ने यमन में एक वरिष्ठ ईरानी सैन्य अधिकारी के खिलाफ एक और शीर्ष-गुप्त अभियान चलाया।”

पोस्ट के अनुसार, ईरान के कुद्स फोर्स में एक फाइनेंसर और प्रमुख कमांडर अब्दुल रजा शहलाई को निशाना बनाया गया था, जो यमन में सक्रिय है, हालांकि उनकी मौत नहीं हुई।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन