2014 में ग़ज़्ज़ा युद्ध के जरिए इस्राईल ने फिलिस्तीनियों पर जो युद्ध थोपा था, उस युद्ध में उसे मुंह की खाने को मिली थी. ये खुद अब इस्राईल के एक मंत्री ने स्वीकार किया हैं.

योआव गालांत ने तेल अवीव में आयोजित हुई एक बैठक में कहा कि इस्राईल ग़ज़्ज़ा युद्ध में हमास को पराजित करने में विफल रहा था.

उन्होंने इस्राईली सेना की संयुक्त कमान के प्रमुख बेनी गांत्ज़ की कड़ी आलोचना की और कहा कि इस युद्ध को शुरू करने की तैयारी पूरी तरह से लचर थी और बहुत ढिलाई से काम लिया गया था.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होंने इसी तरह कहा कि इस युद्ध पर तत्कालीन रक्षा मंत्री मूशे यअलून की निगरानी भी पर्याप्त नहीं थी. योआव गालांत ने दावा किया कि अगर गांत्ज़ और यअलून युद्ध के लिए अच्छी तरह से तैयार होते तो इस्राईल, हमास को हरा सकता था.

इस बीच रेडियो इस्राईल ने भी एक उच्चाधिकारी के हवाले से, जो ग़ज़्ज़ा युद्ध के दौरान मंत्री था, बताया है कि ग़ज़्ज़ा के युद्ध के दौरान, इस्राईल का जो सुरक्षा संबंधी मंत्रीमंडल था वह पिछले दो दशकों में सबसे बुरा मंत्रीमंडल था

Loading...