इजरायली पुलिस ने शुक्रवार को अल-अक्सा मस्जिद में जुम्मे की नमाज अदा करने से मुस्लिमों को रोक दिया। उन्होंने COVID-19 के खिलाफ संघर्ष के बहाने ओल्ड सिटी के प्रवेश द्वार पर नमाजियों को मस्जिद की और जाने से रोक दिया।

इज़राइली सरकार द्वारा लगाए गए कड़े वायरस के उपायों के बीच पूर्वी यरुशलम के कब्जे वाले क्षेत्र अल-अक्सा मस्जिद में शुक्रवार को सीमित संख्या में लोगों ने नमाज अदा की।

इजरायली पुलिस ने शुक्रवार की नमाज अदा करने के लिए फिलिस्तीनियों को हरम अल-शरीफ पहुंचने से रोक दिया। सुरक्षा बलों ने अल-अक्सा मस्जिद तक पहुंचने के लिए ओल्ड सिटी में रहने वालों को ही अनुमति दी।

मस्जिद पहुंचने से रोके जाने के बाद, फिलिस्तीनियों ने ओल्ड सिटी की दीवारों के पास ही जुम्मे की नमाज अदा की। अल अक्सा के इमाम यूसुफ अबू स्नेना ने खुतबे में कहा कि नमाजियों को मस्जिद तक पहुंचने से रोक दिया।

इस्लामिक जिहाद आंदोलन के प्रवक्ता दाऊद शहाब ने कहा, “इजरायल फिलिस्तीनियों के खिलाफ अपनी शत्रुतापूर्ण योजनाओं की सेवा करने के लिए कोरोनोवायरस प्रकोप का फायदा उठा रहा है।”

हमास के प्रवक्ता हाज़िम कासिम ने अनादोलु एजेंसी को बताया कि हालिया कदम को यरुशलम योजना के रूप में देखा जा सकता है और फिलिस्तीनी अरब की पहचान को नष्ट कर सकते हैं।