al-aqsa

फिलिस्तीनियों की जमींन पर कब्ज़ा कर अवैध शासन कर रही इसरायली सरकार ने अब इस्लाम धर्म की तीसरी सबसे पवित्र मस्जिद अल अक्सा सहित शहर की सभी मस्जिदों में लाऊड स्पीकर पर अज़ान देने पर पाबंदी लगा दी हैं.

रविवार को यहूदी सांसदों द्वारा इसरायली संसद में इस सबंध में पारित प्रस्ताव पर इसरायली कैबिनेट ने सहमती दे दी हैं. जिसके आधार पर अब अल अक्सा समेत किसी भी मस्जिद में लाऊड स्पीकर पर अज़ान नहीं दी जा सकेगी. गौरतलब रहें कि इजराइल हमेशा से ही अल अक्सा का यहूदीकरण करने की कोशिश में लगा रहा हैं,

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इस सबंध में इसरायली प्रशासन का कहना हैं कि अज़ान की आवाज से फिलिस्तीनियों को बेघर करके इजराइल द्वारा बसाई गयी कॉलोनियों में रहने वाले इजराइलियों को परेशानी होती हैं.

हाल ही में यूनिसेफ द्वारा अल अक्सा पर से यहूदियों के दावें को खारिज करने के बाद से ही इजराइल ने ऐसी उलटी सीधी हरकते और बड़ा दी हैं. इजराइल के इस फैसले पर हमास का कहना है कि ज़ायोनी शासन बैतुल मुक़द्दस की इस्लामी पहचान को बदल देने की साज़िश रच रहा है, जिसे फ़िलिस्तीनी और दुनिया भर के मुसलमान कभी भी स्वीकार नहीं करेंगे.

Loading...