ISIS ने ली श्रीलंका में हुए ब’म धमाकों की ज़िम्मेदारी, रक्षामंत्री ने बताया – क्राइस्‍टचर्च मस्जिद ह’मले का बदला

नई दिल्ली: श्रीलंका में ईस्टर के मौके पर हुए धमाकों की जिम्मेदारी आतंकी संगठन आईएसआईएस ने ली है. मंगलवार को आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट ने अपनी ‘अमाक न्यूज एजेंसी’ के जरिए हमलों की जिम्मेदारी ली.

अमाक ने बयान में कहा है, ‘सुरक्षा सूत्रों की ओर से अमाक एजेंसी को बताया गया था कि हमलावर अमेरिकी की अगुवाई वाले देशों के नागरिकों को निशाना बनाने और श्रीलंका के क्रिश्चियंस को निशाना बनाने वाले सैनिक आईएसआईएस के थे।’ बयान में आगे कुछ भी नहीं कहा गया है।

दूसरी तरफ श्रीलंका के एक वरिष्ठ मंत्री ने प्राथमिक जांच के परिणाम का उल्लेख करते हुए मंगलवार को संसद को जानकारी दी कि ईस्टर के मौके पर रविवार को देश के गिरजाघरों और लग्जरी होटलों में हुए विस्फोटों को स्थानीय इस्लामी कट्टरपंथियों ने अंजाम दिया था। उन्होंने बताया कि ये विस्फोट न्यूजीलैंड की मस्जिदों में की गयी गोलीबारी का बदला लेने को किये गये थे।

श्रीलंका के रक्षा राज्य मंत्री रूवन विजेवार्डेने ने कहा कि शुरुआती जांच में पाया गया है कि आत्मघाती हमले 15 मार्च को न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च की दो मस्जिदों में हुए हमले का बदला लेने को किये थे जिसमें 50 लोगों की मौत हुई थी। विजेवार्डेने ने संसद से कहा, शुरुआती जांच में खुलासा हुआ है कि श्रीलंका में (रविवार को) जो कुछ हुआ वो क्राइस्टचर्च में मुसलमानों पर हुए हमले का बदला था। उन्होंने कहा कि हमले से पहले कुछ सरकारी अधिकारियों को भेजे खुफिया मेमो के मुताबिक, श्रीलंका में हमले के लिए जिम्मेदार इस्लामी कट्टरपंथी संगठन के सदस्य ने क्राइस्टचर्च हमले के बाद सोशल मीडिया पर ‘चरमपंथी सामग्री’ पोस्ट की थी।

प्रधानमंत्री रनिल विक्रमसिंघे ने रविवार को हुए हमले के बारे में कहा है कि वैश्विक आतंकवाद श्रीलंका पहुंच रहा है। विक्रमसिंघे ने संसद में कहा कि श्रीलंका ने 2009 तक राजनीतिक उद्देश्य के आतंकवादी अभियान का सामना किया, लेकिन ये हमले उस प्रकृति से अलग के थे। 2009 में लिट्टे के साथ तीन दशक लंबी लड़ाई उसकी हार के साथ खत्म हो गयी थी। उन्होंने कहा, मुसलमान समुदाय इन हमलों के खिलाफ है। सिर्फ कुछ ही इन हमलों में शामिल हैं।

विज्ञापन