इराक की US-ईरान के बीच मध्यस्थता की पेशकश, रूहानी बोले – परमाणु कार्यक्रम पर हो सकता है जनमत संग्रह

6:03 pm Published by:-Hindi News

इराकी संसद के अध्यक्ष ने शनिवार को कहा कि अगर बगदाद से कहा गया तो वह अमेरिका और ईरान के बीच मध्यस्थता करने को तैयार है। मोहमद हलबुसी का यह बयान ईरान के विदेश मंत्री मोहम्मद जवाद जरिफ की दो दिवसीय इराक यात्रा के दौरान आया है।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा 2015 के परमाणु समझौते से अमेरिका को बाहर करने के बाद से ही दोनों देशों (अमेरिका-ईरान) के बीच माहौल तनावपूर्ण है। इराकी टीवी पर प्रसारित फुटेज में विदेश मंत्रालय के अवर सचिव निजार खैराला ईरानी विदेश मंत्री जरिफ का स्वागत करते दिख रहे हैं।

दूसरी और ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने कहा है कि उनका देश परमाणु कार्यक्रम पर एक जनमत संग्रह करा सकता है। सरकारी समाचार एजेंसी इरना के मुताबिक, राष्ट्रपति रूहानी ने शनिवार की शाम ईरान के प्रमुख मीडिया प्रतिष्ठानों के संपादकों के साथ बैठक में यह सुझाव दिया। पिछले हफ्ते देश के सर्वोच्च धार्मिक नेता ने रूहानी की सार्वजनिक रूप से आलोचना की थी।

रूहानी ने कहा कि उन्होंने सर्वोच्च नेता अयातुल्ला अली खामनेई को 2004 में उस वक्त जनमत संग्रह की सलाह दी थी, जब वह ईरान के परमाणु कार्यक्रम के वरिष्ठ वार्ताकार थे। रूहानी के हवाले से बताया गया है कि उस वक्त सर्वोच्च नेता ने जनमत के विचार को मंजूरी दी थी लेकिन ऐसा हो नहीं पाया था। इस तरह का मतदान किसी भी समय एक समाधान हो सकता है।

वहीं अमेरिका ने शुक्रवार को मिड्ल ईस्‍ट में 1500 सैनिकों की तैनाती की घोषणा की। यह तैनाती ईरान के साथ तनाव के बीच की गई है। ईरान के विदेश मंत्री ने अमेरिका के इस कदम को गलत बताते हुए कहा कि क्षेत्र में सैनिकों की तैनाती करने वाला अमेरिकी कदम अंतरराष्‍ट्रीय शांति के लिए काफी खतरनाक होगा।

Loading...