अमेरिका द्वारा ईरान सहित सात मुस्लिम देशों के नागरिकों के अमेरिका में प्रवेश पर लगाए गए प्रतिबंध को ईरान ने इस्लामिक दुनिया का खुला अपमान करार देते हुए अमेरिका को उसी की भाषा में जवाब देने का फैसला किया हैं. ईरान ने कहा हैं कि वह भी पूरी तरह से अमेरिकी नागरिकों को उसके देश में प्रतिबंधित करेगा.

ईरानी विदेश मंत्रालय की ओर से शनिवार को जारी बयान में आया है, “देश के भीतर और बाहर ईरानी जनता के आत्मसम्मान की रक्षा के लिए इस्लामी गणतंत्र सरकार, ईरानी नागरिकों पर अमरीकी सरकार की ओर से पाबंदी लगाने के फ़ैसले के अल्पकालिक व दीर्घकालिक नतीजे को बहुत बारीकी से परखेगी और इस संदर्भ में उचित क़ानूनी, राजनैतिक व वाणिज्यक कार्यवाही करेगी.”

ईरान के विदेशमंत्रालय ने अपने बयान में कहा कि एेसी स्थिति में कि जब विश्व समुदाय को चरमपंथ और हिंसा को समाप्त करने के लिए वार्ता और विचार विमर्श की आवश्यकता है और जब संयुक्त राष्ट्र संघ की महासभा ने आतंकवाद और हिंसा के विरोध में दुनिया की भागीदारी के ईरान के प्रस्ताव को पास कर दिया है, अमरीका का बिना सोचा समझा क़दम, कुछ इस्लामी देशों के नागरिकों के विरुद्ध भेदभाव करने से हिंसा और चरमपंथ के प्रचार व प्रसार के लिए भूमि प्रशस्त करेगा.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बयान में आगे कहा गया कि ईरानी जनता को निशाना बनाने और निराधार आरोप लगाकर उनका अपमान करने का अमरीकी सरकार का फ़ैसला और ईरानी जनता से दोस्ती पर अधारित अमरीकी दावों के निराधार होने की पोल खुल गयी  और इससे पता चल गया कि अमरीका में सत्तासीन गुट ईरानियों से किस सीमा तक द्वेष रखता है.

Loading...