ईरान के राष्ट्रपति डॉ डॉक्टर हसन रूहानी भारत के तीन दिवसीय आधिकारिक दौरे पर गुरुवार को नई दिल्ली पहुचेंगे. इस दौरान वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तथा अन्य नेताओं के साथ ताजा क्षेत्रीय और वैश्विक गतिविधियों पर चर्चा करेंगे. रूहानी शनिवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से भी मुलाकात करेंगे.

ईरानी समाचार एजेंसी इरना के अनुसार, रूहानी गुरुवार को पहले हैदराबाद पहुंचेंगे, जहां वह शहर के उलेमाओं से मुलाकात करेंगे. वह भारत में रहने वाले ईरानी नागरिकों व छात्रों से भी मिलेंगे. शुक्रवार को वह हैदराबाद की ऐतहासिक जामा मस्जिद में ख़िताब भी करेंगे.

क़ुतुब शाही शासक सुलतान मोहम्मद द्वारा बनवाई गई मक्का मस्जिद के 325 सालों के इतिहास में यह पहली बार होने जा रहा है कि जब कोई ईरानी राष्ट्रपति प्राचीन मक्का मस्जिद में तशरीफ़ लायेंगे. रूहानी के 2013 में सत्ता संभालने के बाद यह भारत का पहला दौरा है.

यह दौरा मोदी की 2016 की तेहरान यात्रा के बाद हो रहा है, जिसमें भारत, ईरान व अफगानिस्तान के बीच पारगमन और परिवहन के त्रिपक्षीय समझौते पर हस्ताक्षर किया गया था. भारत ने ईरान के दक्षिणपूर्वी शहर चाबहार में शाहिद बहिश्ती बंदरगाह के विकास के लिए 8.5 करोड़ डॉलर के निवेश की प्रतिबद्धता जताई है.

बंदरगाह के प्रथम चरण का उद्घाटन राष्ट्रपति रूहानी ने बीते साल दिसंबर में किया था। इस सुविधा के जरिए भारत ने अफगानिस्तान को गेहूं की पहली खेप भेजी थी. इस बंदरगाह ने पाकिस्तान से अलग ईरान, भारत, अफगानिस्तान व अन्य मध्य एशियाई देशों के बीच एक नया पारागमन मार्ग खोला है.

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें