modi rouhani

modi rouhani

अपने भारतीय दौरे पर हैदराबाद में रूहानी ने एक सभा को संभोदित करते हुए कहा की मिडिल ईस्ट में आतंकवाद की साजिश पश्चिम की तरफ से की गयी थी.

भारत के हैदराबाद में मुस्लिम विद्वानों के एक समूह को संबोधित करते हुए, रूहानी ने कहा कि “पश्चिम की औपनिवेशिक शक्तियों ने हमेशा मुस्लिम समुदायों के प्रति “अनुचित” दृष्टिकोण अपनाया है, उन्होंने कहा की अगर सारे मुस्लिम एक जुट होकर रहे तो अमेरिका कभी भी जेरुसलम को इसराइल की राजधानी के रूप में पहचानने की हिम्मत नहीं करेगा “. उन्होंने कहा कि “जो लोग यह सोचते हैं कि इस्लाम ‘‘हिंसा एवं आतंकवाद’’ का धर्म है, उनका आकलन गलत है.”

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होंने कहा की “अपने बड़े औद्योगिक केन्द्रों के लिए कच्चे माल उपलब्ध कराने के लिए, पश्चिम की इन शक्तियों ने एशिया और अफ्रीका में इस्लामिक राज्यों में बदल कर उनके समृद्ध प्राकृतिक संसाधनों का शोषण करके उनके प्रति अनुचित दृष्टिकोण अपनाया.”

उन्होंने कहा “दुश्मनों के खिलाफ हमें एकजुट होना होगा, हमारा दुश्मनों के खिलाफ एक-जुट होकर वैज्ञानिक ज्ञान को प्राप्त करना मुसलमानों को वर्तमान दुर्भाग्य से बाहर निकालने का एक मात्र प्रयास है.”

रूहानी ने कहा की “पश्चिम ने इस्लामिक दुनिया के बीच मुसलमानों के दिमागों को गंभीर मुद्दों से हटाने के लिए विभाजन के बीज बो दिए हैं और मुसलमानों को विभाजित करने की साजिश की है और कहा है की “शिया और सुन्नियों के रूप में इराक और सीरिया में शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व है.”

उन्होंने कहा की “भारत दुनिया के विभिन्न धर्मों के बीच शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व का एक जीता-जाता उदाहरण है.”

ईरानी राष्ट्रपति ने कहा कि “आज के मुसलमान विद्वान ज्ञान फैलाने और धार्मिक और सांस्कृतिक संबंधों को मजबूत करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं.” उन्होंने यह भी कहा की “इस्लामी राज्यों के साथ भाईचारे संबंध स्थापित करना ईरान के इस्लामी गणराज्य की मुख्य प्राथमिकताओं में से एक है, “हम क्षेत्र में किसी भी राष्ट्र जिनके साथ हमारे सम्बन्ध अच्छे हो, उनसे दूरी नहीं करना चाहते, मुस्लिम विश्व की समस्याओं को सैन्य साधनों के माध्यम से हल नहीं किया जा सकता है.”

उन्होंने कहा की ” दुश्मनों के खिलाफ इस्लाम की रक्षा के लिए, हमें इसे सही ढंग से समझने की जरूरत है.”

रूहानी गुरुवार को भारत के हैदराबाद पहुंचे, शुक्रवार को उन्होंने क़ुतुब शाही मकबरे का दीदार किया, जिसके बाद उन्होंने मक्का मस्जिद हैदराबाद में एक मुस्लिम समुदाय को संबोधित किया और फिर शाम को दिल्ली के लिए रवाना हुए, जहां वह मोदी से मिलेंगे और कई अहम् मुद्दों पर चर्चा करेंगे.

 

Loading...