सऊदी अरब में शिया नेता निम्र अल निम्र को मौत की सज़ा दिए जाने पर ईरान ने कड़ी प्रतिक्रिया जताई है. ईरान शिया बहुल देश है और उसे सुन्नी बहुल सऊदी अरब का राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी माना जाता है. ईरानी विदेश मंत्रालय ने कहा है कि सऊदी अरब को इसकी क़ीमत चुकानी होगी.

प्रभावशाली शिया धर्मगुरु अयातुल्ला अहमद ख़ातमी ने इसे ऐसा ‘अपराध’ क़रार दिया, जिससे सऊदी अरब के शाही परिवार का ख़ात्मा हो जाएगा. दूसरी ओर, ख़बर है कि शिया नेता को मौत की सज़ा देने के ख़िलाफ़ बहरीन में प्रदर्शन कर रहे लोगों पर पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

लेबनान की शिया परिषद ने निम्र को मौत की सज़ा देने की निंदा करते हुए इसे बहुत बड़ी ग़लती कहा है. इससे पहले, सऊदी अरब के आंतरिक मंत्रालय ने कहा कि चरमपंथी अपराधोें में दोषी पाए गए 47 लोगों को मौत के घाट उतार दिया गया, उनमें निम्र भी शामिल थे.

सऊदी अरब की राजशाही की आलोचना करने के बाद साल 2012 में निम्र अल-निम्र को हिरासत में ले लिया गया था. उनके समर्थकों का दावा है कि निम्र अल निम्र ने कभी भी हिंसा की वकालत नहीं की. सऊदी अरब में अल्पसंखयक शिया समुदाय ने निम्र की गिरफ़्तारी का विरोध किया था.

निम्र अल निम्र के भाई ने कहा है कि उनका परिवार मौत की सज़ा दिए जाने की ख़बर से सदमे में है. उन्होंने उम्मीद जताई कि लोगों की प्रतिक्रिया शांतिपूर्ण होगी. साभार: बीबीसी हिंदी

Loading...