Saturday, June 12, 2021

 

 

 

एर्दोगन के बयान को लेकर उलझे तुर्की-ईरान, दोनों ने दिया एक-दूसरे को समन

- Advertisement -
- Advertisement -

ईरान ने तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तैयप एर्दोगन द्वारा की गई टिप्पणियों को लेकर तुर्की के राजदूत डेर्या ओआर को तलब कर अजरबैजान के सबंध में दिये गए बयान को औसत दर्जा करार देते हुए ‘अस्वीकार्य’ करार दिया।

ईरान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता सईद ख़तीबज़ादेह ने शुक्रवार को कहा कि यूरेशियन मामलों के मंत्रालय के महानिदेशक ने इस्लामिक रिपब्लिक के “ज़ोरदार विरोध” को अंकारा के समक्ष प्रस्तुत किया और सरकार से “तत्काल स्पष्टीकरण” के लिए कहा।

खातिबजादे ने कहा, महानिदेशक ने राजदूत को बताया कि “क्षेत्रीय दावों और गर्मजोशी और विस्तारवादी साम्राज्यों का युग बहुत पहले समाप्त हो गया है।” आगे कहा, “तुर्की के राजदूत को यह भी याद दिलाया गया था कि इस्लामिक गणराज्य कभी भी किसी को अपनी क्षेत्रीय अखंडता में हस्तक्षेप करने की अनुमति नहीं देगा … और अपनी राष्ट्रीय सुरक्षा से कभी समझौता नहीं करेगा।”

वहीं तुर्की ने भी राष्ट्रपति रेसेप तैयप एर्दोगन के बारे में लगाए गए निराधार आरोपों पर ईरानी राजदूत को तलब किया। राजधानी अंकारा में राजदूत मोहम्मद फ़राज़मंद को तुर्की के विदेश मंत्रालय द्वारा तुर्की और एर्दोगन के खिलाफ निराधार आरोपों की निंदा सुनने के लिए बुलाया गया था।

बैठक के दौरान, तुर्की ने आरोपों को खारिज कर दिया, यह कहते हुए कि यदि ईरान को तुर्की से संबंधित किसी भी मुद्दे से असुविधा है, तो संचार के लिए उपलब्ध अन्य चैनल होने पर ईरान के विदेश मंत्री को ट्विटर के माध्यम से तुर्की को लक्षित करना अस्वीकार्य है।

आगे कहा गया, ईरान का दृष्टिकोण का तरीका तुर्की और ईरान के बीच घनिष्ठ संबंधों के साथ संगत नहीं है, और वास्तव में केवल उन लोगों की सेवा करेगा जो इन संबंधों को खराब करना चाहते हैं।

बता दें कि आर्मेनिया की जीत समारोह में, जिसमें अजरबैजान के राष्ट्रपति इल्हाम अलीयेव भी शामिल थे, तुर्की के राष्ट्रपति ने एक कविता का पाठ किया, जो रुसो-फारसी युद्ध (1826-28) के दौरान तुकमेन्चा संधि के तहत अजरबैजान के अलग होने के बारे में है। जिस पर ईरान ने कड़ी आपत्ति जताई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles