खाड़ी में रोज बढ़ रहे तनाव के बीच ईरान ने ब्रिटेन के दो तेल के टैंकर को शुक्रवार को अपने कब्जे में लिया। ब्रिटेन ने एक बयान जारी कर इस बात की पुष्टि की।

वहीं ईरान के रिवोल्यूशनरी गार्ड्स की आधिकारिक वेबसाइट Sepahnews के अनुसार, Stena Impero टैंकर Hormozgan Ports और समुद्री संगठन के अनुरोध पर रिवोल्यूशनरी गार्ड्स द्वारा जहाजों को जब्त किया गया, जब वह अंतरराष्ट्रीय समुद्री नियमों का सम्मान न करते हुए वह स्ट्रेट से गुजर रहे थे।’

बता दें कि रिवॉल्यूशनरी गार्ड्स की यह कार्रवाई ब्रिटेन की उस कार्रवाई के दो हफ्ते बाद आई है जब ब्रिटेन ने ईरान के टैंकर को कब्जे में लिया था। इस मालवाहक पोत को यूरोपीय यूनियन (ईयू) के प्रतिबंधों की अवहेलना के आरोप में पकड़ा गया।

irann

यूरोन्यूज की रिपोर्ट के अनुसार ब्रिटेन ने कहा, एक ब्रिटिश झंडे वाला तेल टैंकर और ब्रिटेन से जुड़े एक अन्य जहाज को शुक्रवार को स्ट्रेट ऑफ होर्मुज में जब्त कर लिया गया। ब्रिटेन के विदेश सचिव जेरेमी हंट ने कहा, ‘शुक्रवार को स्ट्रेट ऑफ होर्मुज में ब्रिटेन से जुड़े एक टैंकर और यूके से जुड़े एक अन्य जहाज को जब्त किया गया है।’

विदेश सचिव जेरेमी हंट हंट ने कहा कि वह तथ्यों की पुष्टि करने और जहाजों को छोड़ने के लिए ‘तेजी से सुरक्षित’ प्रयास करने के लिए एक आपातकालीन सरकारी बैठक में भाग लेंगे। टैंकर के मालिक स्टैना बल्क का कहना है कि ब्रिटिश झंडे वाला टैंकर- स्टेना इम्पेरो का सामना ‘स्ट्रेट ऑफ हॉर्मुज से आते वक्त दो अज्ञात छोटे हेलीकाप्टर से हुआ था।’

ब्रिटेन के विदेश कार्यालय ने कहा कि दूसरा पोत लिबरियन ध्वज वाला था। हंट ने शुक्रवार रात एक बयान में कहा, ‘तेहरान में हमारे राजदूत स्थिति को सुलझाने के लिए ईरानी विदेश मंत्रालय के साथ संपर्क में हैं और हम अंतरराष्ट्रीय सहयोगियों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं। हंट  ने कहा ‘ यह जब्ती अस्वीकार्य है. यह जरूरी है कि नेविगेशन की स्वतंत्रता बनी रहे और सभी जहाज सुरक्षित और स्वतंत्र रूप से इस क्षेत्र में आगे बढ़ सकें।’

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन