शनिवार को ईरान के सर्वोच्च नेता ने राष्ट्रपति हसन रूहानी के सुझाव का समर्थन किया है जिसमे उन्होने कहा था कि अगर उनकी खुद की निर्यात बंद हो जाती है तो ईरान खाड़ी के तेल निर्यात को रोक सकता है।

खोमनई ने राष्ट्रपति द्वारा की गई टिप्पणी कि ‘अगर ईरान का तेल निर्यात नहीं किया जाता है, तो कोई क्षेत्रीय देश का तेल निर्यात नहीं किया जाएगा,’ पर कहा कि उनकी महत्वपूर्ण टिप्पणियां थीं जो नीति और ईरान की प्रणाली के दृष्टिकोण को दर्शाती हैं,”

बता दें कि रूहानी ने वाशिंगटन द्वारा अमेरिकी प्रतिबंधों और प्रयासों को कम करने के लिए प्रतिक्रिया मे ये टिप्पणी की थी। जिसमेअमेरिका कि और से सभी देशों को ईरानी तेल खरीदने से रोकने के लिए मजबूर करने की कोशिश की जा रही है।

ईरानी अधिकारियों ने अतीत में किसी भी शत्रुतापूर्ण अमेरिकी कार्रवाई के प्रतिशोध में, एक प्रमुख तेल शिपिंग मार्ग, होर्मज़ की जलडमरूमन को अवरुद्ध करने की धमकी दी है।

irann

 

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के ईरान के परमाणु कार्यक्रम पर 2015 अंतर्राष्ट्रीय समझौते से वापस लेने के फैसले के बाद खोमनई ने संयुक्त राज्य अमेरिका के साथ किसी भी नवीनीकृत वार्ता को अस्वीकार करने के लिए विदेश मंत्रालय के अधिकारियों को भाषण दिया।

खोमनई ने कहा, “अमेरिकियों के शब्द और यहां तक ​​कि हस्ताक्षर पर भरोसा नहीं किया जा सकता है, इसलिए अमेरिका के साथ वार्ता का कोई फायदा नहीं हुआ है।” संयुक्त राज्य अमेरिका के साथ बातचीत करने के लिए यह “स्पष्ट गलती” होगी क्योंकि वाशिंगटन अविश्वसनीय था।