Saturday, July 24, 2021

 

 

 

बगदाद में अमेरिकी दूतावास पर दागे गए रॉकेट, ईरान ने किया युद्ध का ऐलान

- Advertisement -
- Advertisement -

शुक्रवार को अमेरिका द्वारा इराक के एयरपोर्ट पर ड्रोन से हमला कर ईरान के जनरल कासिम सुलेमानी की हत्या कर देने के बाद अब ईरान समर्थक गुटों ने इराक में अमेरिकी दूतावास और अल-बालाद एयर बेस पर शनिवार देर रात कई रॉकेट दागे। इराकी सेना ने मिसाइल हमलों की पुष्टि की और कहा कि कोई हताहत नहीं हुआ है।

इसके साथ ही ईरान के क़ौम स्थित प्रमुख मस्जिद पर लाल रंग का झंडा (Red Flag) फहराया गया है। ईरान के सरकारी टीवी चैनल ने दिखाया कि पवित्र शहर क़ौम में जमकारन मस्जिद (Jamkaran Mosque) के गुंबद पर लाल झंडा लगाया गया। शिया समुदाय में लाल झंडे का मतलब होता है बदले की कार्रवाई या फिर युद्ध का ऐलान।

यहां कौम में मस्जिद पर लाल झंडा फहराने के साथ लाउडस्पीकर पर दुआ मांगते सुना गया, ‘या अल्लाह, अपने रखवाले को फिर से दुनिया पर भेजो।’ इसे पैगंबर मेहदी के दोबारा प्रकट होने की दुआ के रूप से देखा जा रहा है, जिनके बारे में इस्लामी मान्यता है कि आखिरी समय में (कयामत से पहले) वह धरती से बुराई के अंत के लिए दोबारा प्रकट होंगे।

स्थानीय लोगों के मुताबिक पवित्र शहर क़ौम के इतिहास में ये पहला मौका है जब मस्जिद के ऊपर लाल झंडे लगाया गया है। जामकरन मस्जिद को ईरान का सबसे पवित्र मस्जिद माना जाता है और यहां के युवाओं पर इसका काफी प्रभाव है।

ईरानी कमांडर की चेतावनी, 35 अमेरिकी ठिकानों पर है नजर

ईरान की एलीट रिवॉल्यूशनरी गार्ड्स के कमांडर अबुहमजेह ने अपने जनरल की मौत के बदले खाड़ी क्षेत्र में अमेरिकी सेना के लिए खतरे बढ़ने की चेतावनी दी। केरमन राज्य में अबुहमजेह ने कहा कि मध्यपूर्व (पश्चिम एशिया) में ईरान ने तेल अबीव समेत 35 अमेरिकी ठिकानों को चिह्नित किया है, जिन पर उनकी नजर है।

उन्होंने होरमुज की खाड़ी को पश्चिमी देशों के लिए अहम बिंदु बताते हुए इस क्षेत्र में हमलों के लिए तैयार रहने की चेतावनी दी। बता दें कि इसी खाड़ी से वैश्विक सप्लाई का एक तिहाई कच्चा तेल गुजरता है। साथ ही अमेरिकी युद्धपोत भी यहां से गुजरते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles