सोमवार को फारस की खाड़ी में अमेरिका और ईरान के बीच टकराव की स्थिति बन गई. दरअसल अमरीकी और ईरानी युद्धपोत एक बार फिर आमने सामने आ गए थे.

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, खाड़ी में उस समय टकवार की स्थिति पैदा हो गई, जब ईरान की इस्लामी क्रांति के संरक्षक बल आईआरजीसी के युद्धपोत और अमरीकी युद्धपोत एक दूसरे से काफ़ी निकट हो गए. दोनों के बीच केवल 000 यार्ड से भी कम रह दुरी रह गई थी.

हालांकि किसी भी संभावित टकराव से बचने के लिए अमरीकी युद्धपोत ने अपना रास्ता बदल लिया, हालांकि इससे पहले उसने ख़तरे का अलार्म बजा दिया था और फ़ायर के लिए हथियारों को तैयार कर लिया था. ईरानी युद्धपोन ने भी जवाबी क़दम उठाते हुए चेतावनी देने वाला फ़ायर किया और उसने यूएसएस महन से अपनी दूरी कम नहीं की.

फारस की खाड़ी में अमरीकी वायु सेना की मौजूदगी के कारण, इससे पहले भी कई बार ईरानी और अमरीकी वायु सेनाएं आमने-सामने आ चुकी हैं और सीधा टकराव होने से बच गया है.

जनवरी 2017 में अमरीकी विध्वंसक यूएसएस महन ने निकट होते एक ईरानी युद्धपोत को चेतावनी देने के लिए गोला फ़ायर किया था.a

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें