म्यांमार के रखाइन प्रांत में रोहिंग्या शरणार्थी संकट का मुआयना करने के लिए सोमवार को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) का एक प्रतिनिधिमंडल म्यांमार पहुंचेगा.

बता दें कि अगस्त, 2017 में रोहिंग्या मुसलमानों के खिलाफ सैन्य के बाद समुदाय के करीब 7,00,000 लोग देश छोड़कर बांग्लादेश में बने शरणार्थी शिविरों में चले गये थे. लेकिन अब भी कई हजार रोहिंग्या मुसलमान म्यामांर में मौजूद हैं.

संयुक्त राष्ट्र में ब्रिटेन की राजदूत केरेन पियर्स ने कहा कि सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि अंतरराष्ट्रीय शांति एवं सुरक्षा के लिए जिम्मेदार संस्था ‘स्वयं मानवता के खिलाफ कथित मानवाधिकार उल्लंघन, दुर्व्यवहार एवं अपराध संबंधी कृत्यों के जमीनी हालात देख पाएगी.’

rohingya123

केरेन ने कहा कि बांग्लादेश में मौजूद शरणार्थियों की मदद के लिए संयुक्त राष्ट्र एक महत्वपूर्ण प्रयास कर रहा है. वहीँ म्यांमार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने ब्यौरा दिए बिना कहा कि वे 30 अप्रैल को यहां की राजधानी आएंगे और अगले दिन रखाइन जाएंगे.

इसी बीच  रोहिंग्या परिवार की वापसी के म्यांमार के दावे को बांग्लादेश ने खारिज किया. इससे पहले बांग्लादेश ने पांच रोहिंग्या शरणार्थियों की वापसी के म्यांमार के दावे को बीते 16 अप्रैल को खारिज कर दिया.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें