ttt

तुर्की सेना ने सीरियाई शहर आफरीन को पूरी तरह से नियंत्रण में लेने के बाद आधिकारिक तौर पर पहला वीडियो जारी किया है. तुर्की जनरल स्टाफ ने वीडियो को शेयर किया. साथ ही कैप्शन दिया: “अफरीन की पहली तस्वीर”

वीडियो में तुर्की सैनिक तुर्की का राष्ट्रीय ध्वज लहराते हुए नजर आ रहे है. तुर्की ने इस जीत का श्रेय उन लोगों को दिया जो 18 मार्च को शहीद हुए थे.

बता दें कि मार्च 18, 1915 की 103 वीं वर्षगांठ को तुर्की में एक राष्ट्रीय दिन के रूप में चिह्नित किया हुआ है, जिसे “कानाकेल विजय और शहीद दिवस” ​​के रूप में जाना जाता है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

तुर्की ने 20 जनवरी को शुरू किये ऑपरेशन ओलिव शाखा के तहत पीआईडी/पीकेके के आतंकवादियों को अफरीन से हटाया है. तुर्की जनरल स्टाफ के अनुसार, ऑपरेशन का उद्देश्य तुर्की की सीमाओं और क्षेत्र के साथ सुरक्षा और स्थिरता स्थापित करना है और साथ ही साथ आतंकवादी क्रूरता और उत्पीड़न से सीरिया की रक्षा करना है.

बयान में ये भी कहा गया कि तुर्की ने अंतरराष्ट्रीय कानून, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों, संयुक्त राष्ट्र चार्टर के तहत अपने आत्मरक्षा अधिकार, और सीरिया के क्षेत्रीय अखंडता के प्रति सम्मान के आधार पर तुर्की के अधिकारों के ढांचे के तहत यह अभियान चलाया.

सेना ने यह भी कहा है कि इस अभियान में केवल आतंकवादी नष्ट किए जा रहे और किसी भी नागरिकों को नुकसान पहुंचाने से बचने के लिए “अत्यंत सावधानी” बरती जा रही है.

Loading...