बॉलीवुड सुपरस्टार सलमान खान को 1998 में दो काले हिरणों के शिकार के मामले में गुरुवार को 5 साल जेल और 10 हजार जुर्माने की सजा सुनाई गई है. साथ ही अन्य आरोपी सैफ अली खान, तब्बू, सोनम और सोनाली बेंद्रे को बरी कर दिया गया है.

सजा का ऐलान होते ही उन्हें जोधपुर सेंट्रल जेल ले जाया गया. जिसके बाद उनकी रात जोधपुर सेंट्रल जेल में गुजरी. आज भी जमानत न मिलने की वजह से उन्हें जेल में रहना पड़ सकता है. उनकी जमानत याचिका पर कल सुनवाई होगी.

इसी बीच पड़ोसी देश पाकिस्तान के विदेश मंत्री ख्वाजा आसिफ का इस सबंध में बयान आया है. उन्होंने कहा कि सलमान खान को मुसलमान होने की सज़ा मिली है. आसिफ़ ने कहा कि सलमान ख़ान को अल्पसंख्यक होने के कारण 5 साल की सज़ा दी गई.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होंने कहा कि सलमान के साथ भारत में ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि वो अल्पसंख्यक हैं. यदि वह भारत में सत्तारूढ़ दल के धर्म (हिंदू) से ताल्लुक रखते तो शायद उन्हें इतनी कठोर सजा नहीं दी जाती.  ऐसे में उनके प्रति कोर्ट का रवैया लचीला हो सकता था.

ख्वाजा आसिफ ने आगे कहा, बीस साल पुराने मामले में उन्हें सजा देने से यह स्पष्ट होता है कि भारत में मुस्लिम समुदाय को अछूत समझा जाता है. ईसाइयों को भी ज्यादा तवज्जो नहीं दी जाती है.’

Loading...