पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने आख़िरकार मुंबई हमले में पाकिस्तान के हाथ होने की बात को स्वीकार लिया है. पद से हटने के करीब 9 महीने बाद उन्होंने कहा, मुंबई हमलों के पीछे पाकिस्तान का हाथ था.

पाकिस्तानी अखबार द डॉन को दिए इंटरव्यू में कहा कि क्या हमें आतंकियों को सीमा पार जाने देना चाहिए और मुंबई में 150 लोगों को मारने देना चाहिए? आपको बता दें कि साल 2008 में हुए  इस हमले में 166 बेगुनाह लोगों की जान चली गई थी.

शरीफ ने कहा, “पाकिस्तान में आतंकी सक्रिय हैं. क्या हमें उन्हें सीमा पार करने देना चाहिए? क्या उन्हें मुंबई में जाकर 100 से अधिक लोगों को मारने देना चाहिए? हम लोग तो पूरा केस भी नहीं चलने देते हैं.” वह आगे बोले कि किसी देश को चलाने के दौरान उसके साथ समानांतर सरकार नहीं चलाई जा सकती हैं. यह सब बंद करना पड़ेगा. आप सिर्फ एक ही सरकार चला सकते हैं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

मुंबई हमलों को पाकिस्तानी आतंकियों ने अंजाम दिया: सत्ता से हटने के 9 महीने बाद नवाज शरीफ ने कबूला, national news in hindi, national news

नवाज ने कहा, “मुझे अपने लोगों ने सत्ता से बेदखल कर दिया. कई बार समझौते करने के बाद भी मेरे विचारों को स्वीकार ही नहीं किया गया. अफगानिस्तान की सोच को मान लिया जाता है, लेकिन हमारी नहीं.”

हालांकि नवाज इस बात को नकारते हैं कि नाकाम रहने के चलते उन्हें पद से जाना पड़ा. वे कहते हैं, “देश में संविधान सबसे ऊपर है. दूसरा कोई रास्ता नहीं है. हमने एक तानाशाह (परवेज मुशर्रफ) पर केस चला दिया. ऐसा पाकिस्तान में पहले कभी नहीं देखा गया.”

बता दें कि पनामा पेपर केस में सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें पिछले साल 28 जुलाई को दोषी करार दिया था, जिसके बाद उन्हें अपनी कुर्सी से हाथ धोना पड़ा था. साथ ही पाकिस्तान के सर्वोच्च न्यायालय ने इसके बाद शरीफ पर आजीवन चुनाव लड़ने पर रोक लगा दी.

Loading...