rohingya123
ढाका: म्यांमार सरकार ने बांग्लादेश में रोहिंग्या शरणार्थियों के शिविर का दौरा करने के लिए अपने एक मंत्री को भेजने का फैसला किया है.
बांग्लादेश के विदेश मंत्रालय ने इस बात की पुष्टि की कि म्यांमार के समाज कल्याण, राहत एवं पुनर्वास मंत्री विन म्यात आय शिविरों का दौरा करेंगे जहां कुल 10 लाख रोहिंग्या शरणार्थी रह रहे हैं. विन म्यात आये राखाइन प्रांत में चल रहे संकट पर आंग सान सू ची के नेतृत्व वाले कार्यबल के उप प्रमुख हैं.
विदेश मंत्रालय में महानिदेशक तारिक मुहम्मद ने एएफपी से कहा, ‘‘उनका कार्यक्रम अभी तय नहीं है.’’ म्यांमार के मंत्री का दौरा 11 या 12 अप्रैल को होने वाला है. बता दें कि म्यांमार की सेना द्वारा सीमा से तकरीबन 7 लाख मुस्लिम अल्पसंख्यक समुदाय के सदस्यों को खदेड़ने के बाद वहां के किसी मंत्री की इस तरह की पहली यात्रा होगी.
एक अन्य बांग्लादेशी अधिकारी ने कहा कि शिविर में म्यांमार के किसी मंत्री का पहला दौरा होगा. इस शिविर में 1990 के दशक से ही रोहिंग्या शरणार्थी रह रहे हैं. संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, 25 अगस्त के बाद से लगभग 6,55,500 रोहिंग्या शरणार्थी बांग्लादेश में प्रवेश कर चुके हैं, जबकि 5,00,000 रोहिंग्या वहां पहले से ही रह रहे हैं.
म्यांमार और बांग्लादेश सरकार में रोहिंग्याओं के देश प्रत्यावर्तन पर एक समझौता हुआ है. इसके तहत म्यांमार इस समझौते की शुरुआत के दिन से दो वर्ष के अन्दर सभी रोहिंग्याओं का बांग्लादेश से प्रत्यावर्तन हो जाएगा.