bpanews 43455d4b 30a4 4b5e b99f 9111a46d2c2a 1

डब्लिन:  ‘ग्रेट मार्च ऑफ़ रिटर्न’ के तहत गज़ा पट्टी में अपने हक़ को लेकर प्रदर्शन कर रहे फिलिस्तीनियों पर इजराइल के टेंकों द्वारा गोलियां बरसाई गई. जिसमे 15 लोगों की मौत हो गई है और 350 लोग घायल हुए हैं.

इस सबंध में आयरलैण्ड की राजनीतिक पार्टी सेन फेन के पूर्व नेता गेरी एडम ने अपनी सरकार से इजरायली राजदूत को देश से बाहर निकाल देने की मांग की है. उन्होंने कहा, “इजरायल के साथ गाजा सीमा पर निहत्थे फिलिस्तीनी प्रदर्शनकारियों की हत्या के लिए इजरायल के पास कोई औचित्य या बहाना नहीं हो सकता.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होंने कहा, “मैंने गाजा और इजरायली टाउन के 200 9 में दौरा किया था। गाजा पट्टी में लगभग 20 लाख फिलीस्तीनियों की हालत भयावह थी. यह एक खुली जेल है, जो इजराइल के घेरे में है, गाजा के लोगों को बुनियादी जरूरतों और एक सभ्य जीवन के लिए तरस रहे है.

एडम ने कहा, अंतर्राष्ट्रीय कानून के उल्लंघन के कारण फिलीस्तीनी भूमि पर महत्वपूर्ण नई इज़राइली बस्तियों का निर्माण किया गया है. उन्होंने कहा, वह ईरान और संयुक्त राष्ट्र को इज़राइली हिंसा के खिलाफ खड़ा करने के लिए आग्रह कर रहे हैं. साथ ही आयरिश सरकार से इजरायल के राजदूत को “आधिकारिक तौर पर बाहर निकालने की मांग कर रहे है.”

Loading...