erdogan
source: haaretz

गाजा में इजराइल का फिलिस्तीनियों पर जुल्मों-सितम लगातार जारी है. जिसमे 8 महीने की बच्ची सहित 61 फिलिस्तीनी शहीद हो चुके है. इसके अलावा 3000 से ज्यादा लोग घायल हो चुके है.

ऐसे में अब तुर्की ने इजराइल के खिलाफ बड़ा फैसला लेते हुए इजराइल के राजदूत को तुर्की छोड़ने का हुक्म सुना दिया है. इतना ही नहीं तुर्की ने अपने राजदूत को भी इजराइल से वापस बुला लिया है.

विदेश मंत्रालय ने राजदूत ईटन नाहे से कहा कि उनके लिए अपने देश लौटना ही “उपयुक्त” होगा. वहीँ  मंगलवार को इजरायल के विदेश मंत्रालय ने भी यरूशलेम में तुर्की के कंसुल जनरल को बुलाया और उन्हें भी देश छोड़ने को कहा.

nety

इजरायली विदेश मंत्रालय द्वारा जारी एक बयान में कहा गया कि गुर्कन तुर्कोग्लू को यरूशलेम और अंकारा के बीच द्विपक्षीय संबंधों पर नवीनतम विकास पर विचार करते हुए अपने देश लौटने के लिए कहा गया.

इसी के साथ राष्ट्रपति एर्दोगान ने इज़राइली प्रधान मंत्री बेंजामिन नेतन्याहू की उस टिप्पणी का भी जवाब दिया. जिसमे उन्होंने एर्दोगन की हमास के सबसे बड़े समर्थकों में से एक बताकर निंदा की थी. एर्दोगान ने कहा कि हमास कोई आतंकी संगठन नही बल्कि एक प्रतिरोधी संगठन है.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें