index

अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस ने सीरिया पर कथित रासायनिक हमलों का बहाना लेकर हमला कर दिया है. ये हमला तीन जगहों पर मिसाइलों से किया गया है. जिनमे राजधानी दमिश्क और उसके आस-पास के होम्स जैसे शहर शामिल है.

हमले में राजधानी के आस-पास मौजूद सीरियाई सेना और ‘केमिकल रिसर्च सेंटर’ को निशाना बनाया गया है. वहीं जवाबी कार्रवाई में सीरिया की असद सरकार ने भी अमेरिका को जवाब देने के लिए ऑपरेशन शुरू करते हुए एंटी गाइडेड मिसाइल को लॉन्च कर दिया है.

इसी के साथ हमले के जवाब में रूस ने कहा है कि पुतिन का अपमान बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. एक रूसी दूत ने चेतावनी दी है कि हमले के परिणाम के लिए तैयार रहें.  संयुक्त राष्ट्र में रूस के राजदूत वैसिली नेबेनजिया ने अमेरिका को सीरिया पर सैन्य कार्रवाई करने को लेकर चेतावनी दी.

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक,  नेबेनजिया ने कहा, “हमें उम्मीद है कि वापसी का कोई मतलब नहीं होगा कि अमेरिका और सहयोगी एक संप्रभु देश के खिलाफ सैन्य कार्रवाई करने से दूर रहेंगे.” उन्होंने कहा, “हालात और बढ़ते खतरे के बारे में हम बहुत चिंतित हैं.”

हमले से जुड़ी जनकारी साझा करते हुए अमेरिकी जनरल डनफोर्ड ने कहा है कि अमेरिका ने इस हमले की जानकारी रूस को पहले से नहीं दी थी.

डनफोर्ड ने जानकारी देते हुए कहा कि सीरिया में अमेरिका ने इस तरह से हमला किया है कि रूसी ठिकानों को कोई नुकसान ना पहुंचे.  अमेरिका के डिफेंस सेकेरेट्री जेम्स मैटिस ने जानकारी दी है कि इन हमलों के अलावा अब सीरिया में किसी और हमले का कोई प्लान नहीं है. वहीं उन्होंने आगे कहा कि इस हमले में किसी अमेरिकी जवान के हताहत होने की कोई ख़बर नहीं है.

कोहराम न्यूज़ को सुचारू रूप से चलाने के लिए मदद की ज़रूरत है, डोनेशन देकर मदद करें




Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें