al bad

अरब और इस्लामिक दुनिया के बीच चल रहे आपसी मतभेदों को लेकर अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी के पूर्व निदेशक मोहम्मद अलबरादई ने गहरी चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि अरब देश दूसरों के एजेंडों पर काम करने के बजाय अपनी रणनीति पर काम करे.

मिस्र के वरिष्ठ राजनेता मोहम्मद अलबरादई ने मध्यपूर्व में बढ़ते तनाव को देखते हुए कहा कि अरब देशों को चाहिए कि ईरान और तुर्की के साथ बढ़ते तनाव को कम करें और इस बात का प्रयास करें कि क्षेत्रीय संकट को आपसी बातचीत से हल किया जा सके.

उन्होंने कहा कि कहा कि अरब देशों में इस समय गंभीर और जटिल मतभेद पैदा हो गए हैं और अरब देशों के आपसी मतभेदों ने ग़ैर अरब पड़ोसी देशों को भी अपनी चपेट में ले लिया है. उन्होंने कहा कि युद्धोन्मादी नीतियों से समस्या कम नहीं होती बल्कि इससे समस्या और बढ़ेगी. अलबरादई ने कहा कि सभी पक्षों को बातचीत के माध्यम से समस्याओं को हल करने का प्रयास करना चाहिए जो सबसे अच्छा रास्ता है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Related image

अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी के पूर्व निदेशक ने कहा कि अरब देशों को दूसरों के एजेंडों पर काम करने के बजाय अपनी रणनीति पर काम करना चाहिए. अलबरादई ने कहा कि “मैं अरब देशों और तुर्की व ईरान के बीच पाए जाने वाले मतभेदों की कहानी से पूरी तरह अवगत हूं और मैं जानता हूं कि तुर्की और मिस्र के बीच एक गंभीर टकराव है और यह भी जानता हूं कि सऊदी अरब का ईरान के साथ क्या मतभेद है”.

अलबरादई ने कहा कि मैं सब जानता हूं और उसी आधार पर यह बात कह रहा हूं कि यह सारे मतभेद ऐसे नहीं है कि जिनका समाधान वार्ता से न हो सके. उन्होंने कहा कि मैं क्षेत्र की शांति और प्रगति के लिए कह रहा हूं कि अरब देश ईरान और तुर्की के साथ अपने मतभेदों को समाप्त करके वार्ता की मेज़ पर बैठें और संभावित युद्ध से बचें.

Loading...