पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट ने भ्रष्टाचार में लिप्त प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को अयोग्य घोषित किया हुआ है. ऐसे में अब उनके बारे में पाक मीडिया ने बड़ा ही गंभीर आरोप लगाया है. उन पर 4.9 अरब डॉलर (करीब 32 हजार करोड़ रु.) की मनी लॉन्ड्रिंग के आरोप है.

जिओ न्यूज ने NAB की तरफ से जारी बयान के हवाले से बताया है कि ब्यूरो के चेयरमैन ने मीडिया रिपोर्ट का संज्ञान लिया है. मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि इस घटना का वर्ल्ड बैंक के माइग्रेशन ऐंड रेमिटंस बुक 2016 में भी जिक्र है. हालांकि मीडिया रिपोर्ट में इसका डिटेल नहीं दिया गया है.

न्यूज रिपोर्ट में दावा किया गया है कि रकम को भारतीय वित्त मंत्रालय में जमा कराया गया, नतीजतन भारत का फॉरन एक्सचेंज रिजर्व बढ़ गया और पाकिस्तान को इससे काफी नुकसान झेलना पड़ा.

बता दें कि 28 जुलाई 2017 को सुप्रीम कोर्ट पनामा पेपर्स मामले में शरीफ को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री पद के लिए अयोग्य ठहरा चुकी है. कोर्ट के आदेश के मुताबिक, वो जीवनभर किसी भी सार्वजनिक पद पर नहीं रह सकते हैं. इस फैसले के बाद अकाउंटिबिलिटी ब्यूरो कोर्ट में उनके खिलाफ भ्रष्टाचार के 3 मामले पहले ही चल रहे हैं.

ब्रिटेन में पनामा की लॉ फर्म के 1.15 करोड़ टैक्स डॉक्युमेंट्स लीक हुए थे। इसमें बताया गया था कि व्लादिमीर पुतिन, नवाज शरीफ, शी जिनपिंग और फुटबॉलर मैसी ने कैसे अपनी बड़ी दौलत टैक्स हैवन वाले देशों में जमा की.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें