mohhamad khamim

mohhamad khamim

28 साल के मोहम्मद खमीम सेतियावान ने पैदल चलने का मानो रिकॉर्ड ही तोड़ दिया हो. इंडोनेशिया का रहने वाला यह शख्स अपने देश से नौ हजार किलोमीटर की दूरी पैदल तय करने के बाद मुस्लिमों के पवित्र शहर मक्का पहुँच गया है. इस सफ़र को तय करने में इस शख्स को बेहद मज़ा आया. अपने इस सफ़र के दौरान मोहम्मद खमीम ने कहा था कि, मैं मक्का के लिए अपने घर से निकल चूका हूँ और मुझे अल्लाह पर पूरा यकीन है कि मैं सही सलामत पहुंचूंगा.

यह शख्स 28 अगस्त 2016 को मध्य जावा में अपने घर से मक्का के लिए निकला था और इस यात्रा को पूरा करने के लिए उसको एक साल लगा. उनकी यात्रा इंडोनेशिया से शुरू हुई और मलेशिया, थाईलैंड, म्यांमार (बर्मा), भारत, पाकिस्तान, ओमान, संयुक्त अरब अमीरात के रास्ते से गुज़रकर आखिर में सऊदी अरब पर ख़त्म हुई.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

खमीम अक्सर दिन में रोज़ा रखते थे और रात में पैदल चलना उन्हें बेहद्द पसंद था. इस सफ़र के दौरान वह आसपास की मस्जिदों और लोगों घरों में सोते थे और कभी-कभी तो जंगल में ही अपनी रात गुजारते थे. उहने अलग-अलग जगाहों पर रुकना बेहद पसंद था.

इस यात्रा के दौरान कई लोगों ने उनके प्रति अपना प्यार ज़ाहिर किया, लोग उन्हें रास्ते म में खाना खिलाया करते थे. वह हमेशा इसे लोगों से मिले जो उन्हें खाना और कुछ ज़रूरत की चीज़ें दिया करते थे. इस यात्रा के दौरान थाईलैंड में एक बौद्ध मंदिर में उनका स्वागत भी किया गया था. खमीम ने बताया कि, म्यांमार में गाँव के लोगों ने मुझे खाना खिलाया और मेरा काफी ध्यान भी रखा था. मैंने भारत के तब्लीगी जमात की मस्जिद में अलग-अलग देशों के मुस्लिम धर्मगुरुओं से भी मुलाकात की, उनसे मुझे बहुत कुछ सिखने को मिला.

खमीम ने कहा कि मेरी इस पैदल यात्रा का सिर्फ एक ही मकसद है कि मैं अल्लाह के प्रति अपना समर्पण करना चाहता था और मैं इसे करने में कामयाब साबित हुआ. आपको बता दें इससे पहले बोस्निया के मुस्लिम सेनाद हादजिक ने 10 महीने में 5650 किलोमीटर पैदल यात्रा करके अपना हज का सपना पूरा किया था.