Monday, July 26, 2021

 

 

 

दिल्ली के दंगों के खिलाफ इंडोनेशिया में भारतीय दूतावास पर हुआ विरोध प्रदर्शन

- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्ली: इन्डोनेशिया की राजधानी जकार्ता में भारतीय दूतावास और भारतीय वाणिज्य दूतावास के सामने हाल ही में दिल्ली में हुई सांप्रदायिक झड़पों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन हुआ।

शुक्रवार को नमाज के बाद भारतीय राष्ट्रीय झंडे जलाए इन लोगों ने राजदूत प्रदीप कुमार रावत से बातचीत की मांग की। लगभग 2,000 लोगों की भीड़, जिनमें से कुछ दूतावास के सामने आईएसआईएस के झंडे लहरा रहे थे, ने इंडोनेशिया के एक प्रमुख भारतीय मूल के व्यापार मैग्नेट के खिलाफ विरोध प्रदर्शनों की धमकी दी।

एक अधिकारी के अनुसार, इंडोनेशिया के विदेश मंत्रालय ने एक त्वरित कार्रवाई की और जकार्ता में भारतीय दूतावास को सभी सहायता प्रदान की। जबकि पाकिस्तान की भूमिका पर संदेह किया जा रहा था, इंडोनेशिया के विशेषज्ञों ने विरोध प्रदर्शन में शामिल समूहों की प्रकृति पर चिंता व्यक्त की।

रावत ने इस्लामिक डिफेंडर्स फ्रंट, फतवा गार्ड्स नेट i o n n a l मूवमेंट और 212 पूर्व छात्रों के भाईचारे वाले समूह द्वारा ध्वज को जलाने की निंदा की। उन्होंने भारतीय ध्वज को जलाने के अपने कदम के बाद कट्टरपंथियों के साथ जुड़ने से इनकार कर दिया। रावत ने स्थानीय पत्रकारों को बताया कि कट्टरपंथी समूहों द्वारा खतरा इंडोनेशिया के मूल्यों के अनुरूप नहीं था।

उन्होने कहा, “इस चरमपंथी समूह के विचारों ने भय फैलाया ताकि लोग डरें और आतंकित हों। अगर हम डरते हैं और घबराते हैं, तो वे जीत जाते हैं। हम खतरों का जवाब नहीं देंगे। कट्टरपंथियों ने दिल्ली दंगों के खिलाफ बांग्लादेश और अफगानिस्तान में विरोध प्रदर्शन भी शुरू किए हैं।

साउथ एशिया का सबसे बड़ा देश इंडोनेशिया अपनी समकालिक संस्कृति के लिए जाना जाता है। इंडोनेशिया के विशेषज्ञ – जिनका भारत के साथ संबंध पिछले कुछ वर्षों में एक परिवर्तन देखा गया है – ने विरोध में शामिल समूहों की प्रकृति और अभिविन्यास पर चिंता व्यक्त की। प्रदर्शनकारियों की रचना इंडोनेशिया के लोकाचार और संस्कृति का प्रतिनिधित्व नहीं करती है, जो कि इसके समन्वयन दर्शन के लिए जाना जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles