Friday, July 30, 2021

 

 

 

दिल्ली दंगों को लेकर इंडोनेशिया में भारी विरोध-प्रदर्शन, राजदूत को भी किया तलब

- Advertisement -
- Advertisement -

देश की राजधानी दिल्ली में हुई मुस्लिम विरोधी हिंसा को लेकर दुनिया के सबसे बड़े मुस्लिम देश इंडोनेशिया में भारतीय दूतावासों पर जारी विरोध-प्रदर्शन थमने का नाम नहीं ले रहे है। एक बार फिर से इंडोनेशिया के विदेश मंत्रालय ने दिल्ली दंगों को लेकर भारतीय राजदूत को भी तलब किया है।

जानकारी के अनुसार, मार्च की शुरुआत से, उत्तरी सुमात्रा प्रांत के सबसे बड़े शहर, इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता और मेदान में भारतीय मिशनों के पास नई दिल्ली में हिंसा के खिलाफ विरोध प्रदर्शन हुए हैं। इससे पहले इंडोनेशिया में भारत के दूत प्रदीप कुमार को 28 फरवरी को इस मुद्दे पर चर्चा करने के लिए विदेश मंत्रालय ने जकार्ता में बुलाया था।

जकार्ता में 2, 6 और 13 मार्च को और मेदान में 2 मार्च को विरोध प्रदर्शन आयोजित किए गए, मुख्य रूप से नागरिक समाज समूहों और इस्लामी गैर-सरकारी संगठनों द्वारा चिंता जताने पर इंडोनेशियाई सरकार ने वियना कन्वेंशन के तहत राजनयिक संबंधों को लेकर अपनी प्रतिबद्धताओं को पूरा किया।

अधिकारियों ने जकार्ता में कुछ 1,100 पुलिसकर्मियों को तैनात किया और भारतीय मिशनों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए यातायात को मोड़ दिया। समझा जाता है कि ये सुरक्षा उपाय जकार्ता के मानकों से अभूतपूर्व थे। भारत ने अब तक अन्य देशों और अंतर्राष्ट्रीय संगठनों द्वारा नागरिकता (संशोधन) अधिनियम की आलोचना को खारिज कर दिया है, इसे एक आंतरिक मुद्दा बताया है। यह भी कहा है कि सरकार ने नई दिल्ली में सांप्रदायिक हिंसा के बाद सामान्य स्थिति सुनिश्चित करने के लिए कदम उठाए हैं जिसमें 53 लोग मारे गए और सैकड़ों घायल हो गए।

बता दें किर क्षा और सुरक्षा सहित इंडोनेशिया और भारत के बीच मजबूत द्विपक्षीय संबंध हैं। जैश-ए-मोहम्मद प्रमुख मसूद अजहर को अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी के रूप में नामित करने के लिए इंडोनेशिया ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में पिछले साल के प्रयासों में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। दुनिया की सबसे बड़ी मुस्लिम आबादी वाले देश ने दिवंगत विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को पिछले साल अबू धाबी में विदेश मंत्रियों की बैठक में “सम्मान के अतिथि” के रूप में आमंत्रित करने के इस्लामिक सहयोग संगठन के फैसले का समर्थन किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles