Thursday, July 29, 2021

 

 

 

दिल्ली दंगों को लेकर इंडोनेशिया ने किया भारतीय राजदूत को तलब, जताई चिंता

- Advertisement -
- Advertisement -

जकार्ता: भारत की राजधानी दिल्ली में हुई मुस्लिम विरोधी हिंसा को लेकर विश्व के सबसे बड़े मुस्लिम देश इंडोनेशिया ने सख्त रुख अपनाया है। विदेश मंत्रालय ने इंडोनेशियाई सरकार की दंगों पर अपनी चिंताओं से अवगत कराया।

इंडोनेशिया के विदेश मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा कि उसने जकार्ता में भारतीय राजदूत को बुलाकर उन दंगों पर चर्चा की, जिनमें दर्जनों लोगों की जान गई है।“ इंडोनेशिया की सरकार को पूरा विश्वास है कि भारत सरकार स्थिति का प्रबंधन करने और अपने धार्मिक समुदायों के बीच सामंजस्यपूर्ण संबंध सुनिश्चित करने में सक्षम होगी।

मंत्रालय ने कहा, इसके अलावा, दोनों देश समान विशेषताओं को साझा करते हैं, जैसा कि बहुलवादी देश लोकतांत्रिक मूल्यों और सहिष्णुता को बरकरार रखते हैं।” यह बयान धार्मिक मामलों के मंत्रालय द्वारा अनाधिकृत रूप से जारी किए जाने के कुछ घंटों बाद आया, जिसमें एक बयान जारी किया गया था कि संप्रदायवादी “मुसलमानों के खिलाफ हिंसा” की निंदा करते हैं।

दरअसल, इंडोनेशिया के धार्मि”क मामलों के मंत्री फचरुल रज़ी ने एक दिन पहले ही भारत से अपनी अल्पसंख्यक आबादी की रक्षा करने और विश्वास में अंतर के बारे में मानवीय मूल्यों को नुकसान न पहुंचाने का आग्रह किया। रजी ने शुक्रवार को जारी एक प्रेस बयान में कहा, “दंगे अमानवीय और धार्मि’क मूल्यों के विपरीत थे।”

उन्होंने भारत और इंडोनेशिया दोनों में धार्मि’क नेताओं से संयम बरतने और इस मुद्दे पर उकसा’वे से बचने के लिए कहा।रज़ी ने कहा, “उम्मीद है कि भारत में स्थिति जल्द से जल्द सामान्य हो जाएगी।”

अपने देश में भारतीयों के खिलाफ हिं’सा के ड’र से, रज़ी ने भारत में “मुसलमानों के खिला’फ” हमलों का फायदा उठाने को लेकर उपद्रवियों को चेतावनी दी। दुनिया के सबसे अधिक मुस्लि’म बहुल देश इंडोनेशिया में भी 1.69% हिंदू आबादी है, जो कुल 250 मिलियन इंडोनेशियाई लोगों में से लगभग चार मिलियन है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles