ache

बांदा आचे: इंडोनेशिया में 12 वर्ष पहले तबाही को साथ लेकर आई सुनामी की बरसी के मौके पर देश भर में इस भीषण आपदा में जान गंवाने वालों के परिजनों ने दुआ ए मगफिरत की.

देश भर में लाखों की तादाद में इंडोनेशियावासी कब्रिस्तानों और मस्जिदों में उमड़े. मानव इतिहास की सबसे भीषण प्राकृतिक आपदाओं में से एक इस सुनामी ने आचे प्रांत को लगभग तबाह कर दिया था. 9.1 तीव्रता के भूकंप और उसकी वजह से आई सुनामी से मची तबाही के कारण देश में 1,70,000 लोगों की मौत हुई थी.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

सुनामी से अपनी जान बचा चुके लोगों ने उली लीयू मस्जिद में ख़ास दुआ की. यह मस्जिद समुद्र किनारे स्थित उन मस्जिदों में से एक है जो सुनामी के बाद भी अब तक वहीं खड़ी हैं।.आचे के कार्यवाहक गवर्नर सोउदर्मो ने मस्जिद आने वाले लोगों से कहा, भूकंप और सुनामी की आपदा को याद करने का मुख्य कारण पुराने जख्मों को कुरेदना नहीं है.

आचे प्रांत सुमात्रा द्वीप के उत्तरी सिरे पर स्थित है. भूकंप से आई सुनामी ने तटीय इलाकों यहां तक कि सोमालिया को भी अपनी चपेट में ले लिया था.

Loading...