सिंगापूर | सबसे विकसित देशो में से एक सिंगापूर में एक भारतीय इमाम को देश निकाला दिया गया है. इमाम पर आरोप है की उसने विभिन्न समुदाय के लोगो के खिलाफ नफरत फैलाने वाला बयान दिया है. हालाँकि इमाम अंत तक अपने आप को बेकसूर बताते रहे लेकिन सिंगापूर कोर्ट ने उनको दोषी करार देते हुए देश निकाला देने का आदेश दिया. इसके अलावा उन पर 4 हजार डॉलर का जुर्माना भी लगाया गया है.

चैनल न्यूज़ एशिया की खबर अनुसार सिंगापूर में रहने वाले भारतीय इमाम नला मोहम्मद अब्दुल जमील को सिंगापूर की स्टेट कोर्ट ने धर्म और नस्ल के आधार विभिन्न समूहों के बीच नफरत फ़ैलाने का दोषी पाया. इस जुर्म में नला को उनके देश वापिस भेजने और 4000 डॉलर का जुर्माना लगाया गया. यह पूरा मामला इसी साल फरवरी में शुरू हुआ जब नला की एक विडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गयी.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इस विडियो में नला जुमे की नमाज खत्म होने के बाद लोगो को संबोधित करते हुए दिख रहे है. वो लोगो से कह रहे है की यहूदियों और इसाइयों के खिलाफ लड़ाई में अल्लाह हमारी मदद करेगा. इसी बयान को आधार बनाकर नला को गिरफ्तार कर लिया गया. सिंगापूर गृह मंत्रालय के अनुसार किसी भी धर्म के धार्मिक नेताओ का इस तरह का बयान कार्यवाही के लायक माना जाता है.

स्टेट अदालत के आदेश के बाद इमाम को भारत भेजने की तैयारी की जा रही है. इसके अलावा इमाम ने 4 हजार डॉलर का जुर्माना भी भर दिया है. इससे पहले शुक्रवार को नला मोहम्मद ने हिन्दू, सिख , इसाई और बोद्ध धर्म के लोगो से माफ़ी मांग ली. शुक्रवार को यहूदी प्रतिनिधि न होने की वजह से उन्होंने रविवार को इस समुदाय से माफ़ी मांगी.

Loading...