Saturday, July 31, 2021

 

 

 

दिल्ली हिंसा: लंदन में भारतीय प्रवासियों ने किया प्रदर्शन, मांगा अमित शाह का इस्तीफा

- Advertisement -
- Advertisement -

दिल्ली हिंसा के पीड़ितों और नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) के खिलाफ एकजुटता के साथ खड़े होकर लंदन में भारतीय प्रवासियों ने शनिवार को “यूके सरकार को तुरंत दिल्ली में मुस्लिम विरोधी दंगों को प्रायोजित करने के लिए नरेंद्र मोदी सरकार की कड़ी निंदा जारी करने का अनुरोध किया।

लंदन में भारतीय उच्चायोग के बाहर विरोध प्रदर्शन – दक्षिण एशिया सॉलिडैरिटी ग्रुप, एसओएएस इंडिया सोसाइटी, साउथ एशियन स्टूडेंट्स अगेंस्ट फासीवाद, फेडरेशन ऑफ रेड ब्रिज मुस्लिम ऑर्गनाइजेशन (FORMO), और मलयाली मुस्लिमों की समन्वय समिति ने आयोजित किया।

समूह ने निम्नलिखित मांगे उठाई –

> शांति बनाए रखने में घोर विफलता के लिए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह का इस्तीफा मांगा।

> दंगे भड़काने वाले बीजेपी नेताओं की तत्काल गिरफ्तारी – कपिल मिश्रा, अनुराग ठाकुर, परवेश सिंह वर्मा और अन्य और सभी अपराधियों को न्याय के कठघरे में लाया जाये।

> घायलों को उचित चिकित्सा सुविधा दी जाती है और पीड़ित परिवारों का पुनर्वास किया जाता है और उन्हें जान-माल के नुकसान की भरपाई की जाये।

> मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उनकी AAP सरकार ने पीड़ितों और बचे लोगों के लिए शांति और न्याय सुनिश्चित करने के लिए प्रभावी उपाय करके अपनी संवैधानिक भूमिका निभाए।

दक्षिण एशिया सॉलिडैरिटी ग्रुप, निर्मला राजासिंगम ने एक बयान में कहा, “ब्रिटेन में भारतीय और दक्षिण एशियाई प्रवासी भारतीयों के सदस्य के रूप में, हम दिल्ली दंगों और साहसी विरोधी सीएए आंदोलन के बचे लोगों के साथ खड़े हैं।”

उन्होंने कहा, “हम बोरिस जॉनसन सरकार और नरेंद्र मोदी की नरसंहार भाजपा सरकार के बीच घनिष्ठ संबंधों की निंदा करते हैं। ब्रिटिश और भारतीय मोदी समर्थकों की नियुक्ति से दूर-दूर के शासकों का गठबंधन गहरा हो गया है, जिसमें प्रीति पटेल और रितिक सनक प्रमुख कैबिनेट पदों पर हैं। । वे हमारे लिए नहीं बोलते हैं! “

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles