Friday, January 28, 2022

CAA पर अमेरिकी रिपोर्ट में दावा – NRC के साथ मिलने पर मुस्लिमों की अल्पसंख्यक स्थिति होगी प्रभावित

- Advertisement -

अमेरिका की Congressional Research Service (CRS) की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) के साथ संशोधित नागरिक कानून भारत में मुस्लिम अल्पसंख्यक की स्थिति को प्रभावित कर सकता है।

18 दिसंबर को जारी की गई रिपोर्ट में यह भी कहा गया कि स्वतंत्र भारत के इतिहास में पहली बार, देश की प्राकृतिक प्रक्रिया में एक धार्मिक मानदंड जोड़ा गया है। सीआरएस अमेरिकी कांग्रेस का एक स्वतंत्र अनुसंधान विंग है जो सांसदों को सूचित निर्णय लेने के लिए घरेलू और वैश्विक महत्व के मुद्दों पर समय-समय पर रिपोर्ट तैयार करता है। इन्हें अमेरिकी कांग्रेस की आधिकारिक रिपोर्ट नहीं माना जाता है।

सीआरएस ने अपनी पहली रिपोर्ट में कहा, “संघीय सरकार द्वारा नियोजित नागरिकों (NRC) के एक राष्ट्रीय रजिस्टर के साथ मिलकर, CAA (नागरिकता संशोधन अधिनियम) भारत के बड़े मुस्लिम अल्पसंख्यक की स्थिति को लगभग 200 मिलियन लोगो को प्रभावित कर सकता है।”

सीआरएस ने अपनी दो पेज की रिपोर्ट में कहा, “भारत के नागरिकता अधिनियम 1955 ने अवैध प्रवासियों को नागरिक बनने से रोक दिया। 1955 के बाद से अधिनियम में कई संशोधनों के अलावा, किसी में भी धार्मिक पहलू नहीं था।”

बता दें कि नागरिकता (संशोधन) अधिनियम के अनुसार, पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान में धार्मिक उत्पीड़न से बचने के लिए 31 दिसंबर, 2014 तक भारत में आने वाले गैर-मुस्लिम शरणार्थियों को भारतीय नागरिकता दी जाएगी।

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles