सीरिया में अमेरिका ने न केवल बेगुनाहों की जान ली हैं बल्कि अपनी आतंकी गतिविधियों के चलते मस्जिदों पर भी बम गिराकर उन्हें भी शहीद किया हैं. ये बात खुद अमेरिका ने स्वीकारी हैं.

प्रेस टीवी की रिपोर्ट के अनुसार, पेन्टागन के अधिकारियों ने गुरुवार को सीएनएन से बात करते हुए स्वीकार किया कि अमरीकी सेन्ट्रल कमान्ड की समीक्षा से पता चलता है कि पश्चिमी हलब के एक गांव पर 16 मार्च को होने वाले हमले में मस्जिद के एक भाग की इमारत को निशाना बनाया गया.

पेन्टागन के अधिकारियों ने इससे पहले तक इस मस्जिद पर हमले का खंडन किया था. 16 मार्च 2017 को होने वाले अमरीका के हवाई हमले में कम से कम 49 आम नागरिक हताहत हो गये थे.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

ज्ञात रहे कि अमरीका और उसके घटक देश, सीरिया में आतंकवादी गुट से संघर्ष के बहाने इस देश पर आए दिन हमले करते रहते हैं.

सीरिया के अधिकारी अमरीकी हमलों को देश की अखंडता और संप्रभुता का उल्लंघन बताते हैं और कहते हैं कि देश में होने वाली हर कार्यवाही की दमिश्क़ सरकार से अनुमति ली जानी चाहिए.

सीरिया संकट के आरंभ से ही अमरीका, पश्चिमी देशों और उसके क्षेत्रीय घटक देशों ने सीरिया में सक्रिय आतंकवादियों की वित्तीय व सामरिक सहायता करते रहे हैं.

Loading...