source: Vox

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि लापता पत्रकार जमाल खाशुकजी की गुमशुदगी को लेकर बड़ा बयान देते हुए कहा कि अगर उनकी ह*त्या हुई तो सऊदी अरब को कड़ी सजा दी जाएगी।

ट्रंप का यह बयान ऐसे समय आया है जब सऊदी पत्रकार मामले को लेकर उन पर अमेरिकी सांसदों और मीडिया का दबाव बढ़ता जा रहा है। अमेरिका के करीब दो दर्जन सांसदों ने पत्र लिखकर उनसे इस मामले की जांच कराने की मांग की है।

अमेरिकी राष्ट्रपति ने शुक्रवार को एक साक्षात्कार में कहा, ‘इस समय, उन्होंने (सऊदी) इससे इनकार किया है और जोरदार खंडन किया है। क्या वे इसके पीछे हो सकते हैं? हां।’

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

सीबीएस ने कहा कि साक्षात्कार रविवार शाम को प्रसारित किया जाएगा। ट्रंप ने कहा कि मामला खासतौर पर इस वजह से महत्वपूर्ण है ‘कि वह शख्स एक संवाददाता था।’ उन्होंने सीबीएस चैनल के ‘60 मिनट्स’ कार्यक्रम में कहा, ‘हम इसकी तह तक जाएंगे और कड़ी सजा दी जाएगी।’

यह पूछे जाने पर कि वह किन विकल्पों पर विचार करेंगे, अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि वह सऊदी अरब को हथियारों की बिक्री सीमित करने के इच्छुक नहीं हैं। उन्होंने कहा, ‘यह प्रतिबंध पर निर्भर करेगा।’

अमेरिका निवासी जमाल दो अक्टूबर को तुर्की के इस्तांबुल शहर में स्थित सऊदी अरब के वाणिज्य दूतावास गए थे। वह तभी से लापता हैं। तुर्की के अधिकारियों को संदेह है कि दूतावास में ही उनकी ह*त्या कर दी गई। 59 वर्षीय जमाल सऊदी सरकार और प्रिंस मुहम्मद बिन सलमान के मुखर आलोचक माने जाते हैं।

ट्रंप ने शुक्रवार को एक चुनावी अभियान के दौरान कहा, ‘मैं कुछ मुद्दों पर किंग सलमान से बात करूंगा। हम यह पता लगाने जा रहे हैं कि क्या हुआ था।’ वहीं सऊदी अरब के आंतरिक मामलों के मंत्री प्रिंस अब्देल अजीज बिन सउद बिन नायेफ ने कहा कि जमाल की हत्या की खबरें झूठी और बेबुनियाद हैं।

Loading...