अमेरिका में सात मुस्लिम बहुल देशों के लोगों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगाने के फैसले पर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की दुनिया भर में आलोचना हो रही हैं. इसी बीच पाकिस्तान की तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी के नेता इमरान खान ने अमेरिका में पाकिस्तानियों के प्रतिबन्ध की वकालत की हैं.

उन्होंने कहा कि “मैं दुआ करता हूं कि ट्रंप पाकिस्तानियों को वीजा देना बंद कर दें क्योंकि इसके बाद ही हम अपने देश की मुश्किलों को ठीक करने की कोशिश करेंगे.” इसी बीच  व्हाइट हाउस के चीफ ऑफ स्टाफ रींब प्रीबस ने भी भविष्य में अमेरिका में पाकिस्तानियों के प्रवेश पर प्रतिबन्ध लगने का इशारा किया हैं.

उन्होंने कहा कि ‘हमने इन सात देशों को चुना तो इसकी वजह यह है कि कांग्रेस और ओबामा प्रशासन दोनों ने इनकी ऐसे देशों के तौर पर शिनाख्त कर रखी थी कि इनके यहां खतरनाक आतंकवाद को अंजाम दिया जा रहा है.’’ प्रीबस ने कहा, ‘‘अब, आप कुछ अन्य ऐसे देशों की ओर भी इशारा कर सकते हैं जहां समान तरह की समस्याएं हैं, जैसे कि पाकिस्तान और कुछ अन्य देश. शायद हमें इसे और आगे ले जाने की जरूरत है. परंतु फिलहाल के लिए तात्कालिक कदम यह है कि इन देशों में जाने और इनसे आने वाले लोगों की कठोरतम जांच-पड़ताल की जाएगी.’’

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

हालांकि इमरान खान ने ईरान द्वारा अमेरिका को उसी की तरह जवाब देने के फैसले की भी तारीफ़ की हैं. याद रहें कि ईरान ने भी अमरीकी प्रतिबंध के हटाए न जाने तक उसके नागरिकों के भी अपने यहां आने पर रोक लगा दी है.

Loading...