इस्लामबाद: पाकिस्तान में एक हिन्दू लड़की को स्वेच्छा से इस्लाम धर्म अपनाने और मुस्लिम युवक से शादी करने को लेकर परिवार की और से मिल रही धमकी के बाद इस्लामाबाद उच्च न्यायालय ने दोनों को साथ रहने की इजाजत दे दी है.

अनुशी नामक हिन्दू लड़की ने इस्लाम धर्म अपना कर एक मुस्लिम युवक से निकाह किया था. जिसके बाद से ही उसे और उसके शोहर को परिवार की और से जान मारने की धमकी मिल रही थी. परिवार का कहना है कि अनुशी को जोर-जबरदस्ती से मुसलमान बनाया गया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

लेकिन परिवार के दावों की पोल उस वकत खुल गई जब अनुशी ने अदालत को न केवल ये बताया कि उसने अपनी मर्जी से इस्लाम को अपनाया बल्कि उसने अदालत में नमाज अदा कर ये साबित भी किया. उसने कहा कि उस पर इस्लाम अपनाने को लेकर कोई दबाव नहीं था.

अनुशी अब मरिया है. मारिया और उसके पति बिलावल अली भुट्टो ने मर्जी से शादी करने के कारण धमकी मिलने को लेकर उच्च न्यायालय से सुरक्षा की मांग की थी.

अदालत ने दोनों को पुलिस सुरक्षा देते हुए इस्लामबाद में रहने की इजाजत दी. साथ ही अदालत के आदेश पर अपने परिवार के गों से करीब 40 मिनट की मुलाकात की.

Loading...