जर्मनी में एक स्कूल को हिजाब की वजह से एक मुस्लिम महिला को नौकरी देने से इंकार करना महंगा पड़ गया हैं. बर्लिन शहर प्रशासन ने स्कूल पर जुर्माना लगाया हैं.

दरअसल, एक प्राइमरी स्कूल ने हिजाब पहनने के कारण मुस्लिम महिला को नौकरी देने से मना कर दिया था. जिसके बाद उन्होंने स्कूल के खिलाफ बर्लिन ब्रांडेनबर्ग की कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था. गुरुवार को इस मामले में कोर्ट ने मुस्लिम महिला के हक़ में फैसला सुनते हुए स्कूल पर 9250 डॉलर का जुर्माना लगाते हुए मुआवजे के तौर पर मुस्लिम महिला को यह राशि देने का आदेश दिया हैं.

मुख्य न्यायाधीश रिनेट शाउदे ने कहा कि हिजाब पहनने के कारण महिला के खिलाफ भेदभाव किया गया, जबकि हिजाब पहनना स्कूल की शांति के लिए किसी भी तरह खतरनाक नहीं है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

न्यायाधीश ने अपने फैसले में कहा कि उसके खिलाफ भेदभाव गैर-कानूनी है. इसके लिए महिला को 9250 अमरीकी डॉलर की मुआवजा राशि दी गई.

Loading...