रूस में हिजाब को लेकर चल रही बहस के बीच रूस की आधी जनसँख्या ने हिजाब को अपना समर्थन देते हुए इस पर लगे प्रतिबंध का विरोध किया हैं.

अधिकांश रूसी जनता का मानना है कि ्स्कूलों या शिक्षा केन्द्रों में हिजाब या पर्दे पर रोक लगाना अनुचित हैं.  इस सर्वेक्षण के अनुसार इन रूसियों का मानना है कि शिक्षा केन्द्रों पर किसी भी धार्मिक प्रतीक पर रोक अनुचित है.

28 और 29 जनवरी को हुई इस सर्वे में खुलासा हुआ हैं धिकतर रूसियों का मानना है कि मुसलमानों के हिजाब या पर्दे पर न केवल स्कूलों में बल्कि सार्वजनिक स्थलों पर भी रोक नहीं लगानी चाहिए. हालांकि 30 से अधिक प्रतिशत लोगों ने पर्दे पर प्रतिबंध के हित में बात की है जबकि 13 प्रतिशत लोगों ने इस बारे में अपनी राय नहीं दी.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

11 फरवरी 2015 को रूसी फेड्रेशन के न्यायालय ने स्कूली छात्रों की ड्रेस के बारे में नियम बनाया जिसके अनुसार स्कूलों में हिजाब पर रोक लग गई थी. रूस के शिक्षामंत्री ने जनवरी में कहा था कि रूस के छात्रों को धार्मिक प्रतीकों के आधार पर एक-दूसरे से अलग नहीं किया जा सकता.

Loading...